Shattila Ekadashi 2022: पापों का नाश करने के लिए करें ये काम, जानें पारण समय

Edited By Niyati Bhandari, Updated: 28 Jan, 2022 09:04 AM

magh krishna shattila ekadashi

माघ मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी को षटतिला एकादशी कहते हैं। इस दिन भगवान विष्णु की पूजा की जाती है। आज 28 जनवरी को षटतिला एकादशी और

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ

Shattila Ekadashi 2022: माघ मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी को षटतिला एकादशी कहते हैं। इस दिन भगवान विष्णु की पूजा की जाती है। आज 28 जनवरी को षटतिला एकादशी और शुक्रवार का शुभ योग बन रहा है। षटतिला एकादशी भगवान विष्णु को समर्पित है और शुक्रवार का दिन महालक्ष्मी का प्रिय दिन है। श्री हरि को प्रसन्न करने का सरलतम माध्यम है षटतिला एकादशी पर तिल अथवा उससे बनी चीजों का दान, इससे पापों का नाश होता है। इस दिन काले तिलों के दान का विशेष महत्व है। शरीर पर तिल के तेल की मालिश, तिल जल स्नान, तिल जलपान तथा तिल पकवान का सेवन करने पर घोर से घोर पापों का नाश होता है। शास्त्रों में भी कहा गया है-

PunjabKesari Shattila Ekadashi
तिलस्नायी तिलोद्वार्ती तिलहोमी तिलोद्की।
तिलभुक् तिलदाता च षट्तिला: पापनाशना:।।

PunjabKesari Shattila Ekadashi
अर्थात-
 तिल का उबटन लगाकर, जल में तिल मिलाकर स्नान करना, तिल से हवन करना, पानी में तिल को मिलाकर पीना, तिल से बने पदार्थों का भोजन करना और तिल अथवा तिल से बनी चीजों का दान करने से सभी पापों का नाश होता है।

PunjabKesari Shattila Ekadashi
षटतिला एकादशी पारण 29 जनवरी
षटतिला एकादशी तिथि की शुरुआत 28 जनवरी, शुक्रवार को प्रात: काल 02 बजकर 16 मिनट पर होगी और एकादशी तिथि का समापन 28 जनवरी की रात 11 बजकर 35 मिनट पर होगा। ऐसे में षटतिला एकादशी का व्रत 28 जनवरी को ही रखा जाएगा। व्रत का पारण 29 जनवरी को किया जाएगा। पारण के लिए शुभ समय 29 जनवरी शनिवार को सुबह 07 बजकर 11 मिनट से सुबह 09 बजकर 20 मिनट के बीच रहेगा।

PunjabKesari Shattila Ekadashi

Related Story

Trending Topics

Indian Premier League
Rajasthan Royals

Royal Challengers Bangalore

Match will be start at 27 May,2022 07:30 PM

img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!