Sawan Special: शिवलिंग पर जल अर्पित करते संमय अपनाएं ये Rules, वरना...

Edited By Jyoti,Updated: 18 Jul, 2022 02:45 PM

sawan special

हिंदू धर्म के शास्त्रों व पुराणों के अनुसार श्रावण मास में शिव जी का कई प्रकार से अभिषेक किया जाता है। ऐसा कहा जाता देवों के देव महादेव जलाभिषेक आदि करने से अपने भक्तों पर अधिक प्रसन्न होते हैं। ज्योतिष शास्त्र में कई तरह के अभिषेक के बारे में...

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ
हिंदू धर्म के शास्त्रों व पुराणों के अनुसार श्रावण मास में शिव जी का कई प्रकार से अभिषेक किया जाता है। ऐसा कहा जाता देवों के देव महादेव जलाभिषेक आदि करने से अपने भक्तों पर अधिक प्रसन्न होते हैं। ज्योतिष शास्त्र में कई तरह के अभिषेक के बारे में जानकारी दी है, जिसके चलते लोग पंचामृत, दूध व जल से शिवलिंग का अभिषेक करते हैं। इस दौरान हर किसी का सारा ध्यान शिव जी पर जल आदि चढ़ाने पर होता है। लेकिन क्या आप जानते हैं इस दौरान कुछ खास नियमों का ध्यान रखना अनिवार्य होता है। तो अगर आप भई ये नियम जानना चाहते हैं तो चलिए आपको बताते हैं कि श्रावण के इस मास में आपको शिव जी का किसी भी प्रकार का अभिषेक करते समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए।

PunjabKesari Sawan, Sawan first monday, Shiv ji, Shiv Abhishek, Shiv Abhishek Rules, Shiv Abhishek Rules in Hindi, Shivlinga, Sawan Somvar Vrat 2022, Sawan Somvar 2022, शिवाभिषेक नियम,  Shiv Abhishek Niyam in Hindi, Lord Shiva, Shiv ji, Dharm
कहा जाता है कि जिस जिस प्रकार पूजा के लिए जल की पवित्रता आवश्यक है, उसी प्रकार पूजा की पवित्रता भी आवश्यक होती है। अर्थात शिव जी को जल चढ़ाते समय भी पवित्रता का ध्यान रखना बेहद जरूरी है कि किस  कलश से उन पर जल अर्पित किया जाए। ध्यान रखें कि शिवाभिषेक करने के लिए सबसे उत्तम तांबे का पात्र माना जाता है। हालांकि कांसे या चांदी के पात्र से अभिषेक करना भी शुभ माना जाता है। परंतु ध्यान रखें कि शिव जी का किसी स्टील के बर्तन से अभिषेक नहीं करना चाहिए। इसके अलावा तांबे के बर्तन से दूध का अभिषेक करना भी अशुभ माना जाता है।

1100  रुपए मूल्य की जन्म कुंडली मुफ्त में पाएं । अपनी जन्म तिथि अपने नाम , जन्म के समय और जन्म के स्थान के साथ हमें 96189-89025 पर वाट्स ऐप करें
PunjabKesari
शिव शंभू को जल अर्पितक करते समय दिशा का ध्यान रखना भी अति आवश्यक माना जाता है। ज्योतिष व धार्मिक शास्त्रों के अनुसार ध्यान रखें कि कभी भी पूर्व दिशा की ओर मुंह करके शिवलिंग पर जल न चढ़ाएं। मान्यताओं के अनुसार पूर्व दिशा को भगवान शिव का मुख्य प्रवेश द्वार माना जाता है। मान्यता के अनुसार इस दिशा में मुख करने से शिव जी के द्वार में बाधा उत्पन्न होती है और वह रुष्ट भी हो सकते हैं। इसलिए हमेशा ध्यान दें कि इस दौरान उत्तर दिशा की ओर मुख करके ही शिव जी को जल अर्पित करें। तो वहीं ऐसा कहा जाता है कि इस दिशा की ओर मुख करके जल चढ़ाने से शिव जी के साथ-साथ देवी पार्वती की भी कृपा प्राप्ति होती है।
PunjabKesari Sawan, Sawan first monday, Shiv ji, Shiv Abhishek, Shiv Abhishek Rules, Shiv Abhishek Rules in Hindi, Shivlinga, Sawan Somvar Vrat 2022, Sawan Somvar 2022, शिवाभिषेक नियम,  Shiv Abhishek Niyam in Hindi, Lord Shiva, Shiv ji, Dharm
भोलेनाथ को जल अर्पित करते समय मन को शांत रखना चाहिए और धीरे-धीरे इन पर जल अर्पित करना चाहिए। ऐसी मान्यता है धीमी धार से शिवलिंग का अभिषेक करने से महादेव प्रसन्न होते हैं। जो लोग जल्दबाजी में तेज़ धारा में शिवलिंग पर जल अर्पित करते हैं उन्हें शुभ फल प्राप्त नहीं होता। 

इस बात का खास ध्यान रखें जब भी शिवलिंग पर चढ़ाएं तो इस दौरान आप बैठे हों, जी हां, अक्सर देखा जाता है लोग खड़े होकर शिवलिंग पर जल चढ़ाते हैं जो धार्मिक शास्त्रों के अनुसार सही नहीं माना जाता है। ऐसा माना जाता है ऐसा करने से पुण्य की प्राप्ति नहीं होती। इसलिए ध्यान रखें कि न जल चढ़ाते समय और न रुद्राभिषेक करते समय कभी भी खड़े न हों।
PunjabKesari Sawan, Sawan first monday, Shiv ji, Shiv Abhishek, Shiv Abhishek Rules, Shiv Abhishek Rules in Hindi, Shivlinga, Sawan Somvar Vrat 2022, Sawan Somvar 2022, शिवाभिषेक नियम,  Shiv Abhishek Niyam in Hindi, Lord Shiva, Shiv ji, Dharm
 

Related Story

Trending Topics

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!