हरियाणा विजिलेंस ने 24 घंटे में 8 रिश्वतखोरों को घूस लेते किया गिरफ्तार

Edited By Archna Sethi, Updated: 17 Jun, 2022 05:28 PM

haryana vigilance arrested 8 bribe takers in 24 hours

एस.डी.ओ., दो जूनियर इंजीनियर, दो पुलिस अधिकारी, ट्यूबवेल हेल्पर और दो निजी व्यक्ति शामिल

चंडीगढ़, (अर्चना सेठी): हरियाणा राज्य विजिलेंस ब्यूरो ने 24 घंटों में 2.62 लाख रुपये की रिश्वत लेते हुए आठ आरोपियों को पकड़ा है जिनमें एक एसडीओ, दो जूनियर इंजीनियर, दो पुलिस अधिकारी, एक ट्यूबवेल हेल्पर और दो निजी व्यक्ति शामिल हैं। इन सभी आरोपियों को करनाल, कुरुक्षेत्र और फरीदाबाद जिलों में अलग-अलग मामलों में गिरफ्तार किया गया है।

 

 

विजिलेंस ब्यूरो के प्रवक्ता ने बताया कि पहले मामले में निसिंग, करनाल में तैनात यू.एच.बी.वी.एन. के एस.डी.ओ. मनीष लांबा व कनिष्ठ अभियंता पवन कुमार सहित एस.डी.ओ. के निजी चालक को 1 लाख रुपये की रिश्वत की राशि के साथ काबू किया गया। इन्होंने निसिंग में किसान के खेतों से बिजली की लाइन हटाने के लिए रिश्वत की मांग की। जब आरोपित अधिकारियों ने किसान से 3.5 लाख रुपए लेने के बाद भी खेतों से बिजली के तार नहीं हटाए तो शिकायतकर्ता किसान ने विजिलेंस ब्यूरो को सूचना दी। शिकायत की जांच के बाद टीम ने रेड कर तीनों को रिश्वत के पैसे के साथ रंगेहाथ गिरफ्तार कर लिया।

 


अन्य मामले में विजिलेंस ब्यूरो ने कुरुक्षेत्र सेक्टर-7 के चौकी प्रभारी सब-इंस्पेक्टर जयकरण और महिला थाना कुरुक्षेत्र में तैनात महिला एएसआई किरण को केस रफा दफा करने की एवज में 60 हजार रुपये रिश्वत लेते रंगेहाथ दबोचा है। शिकायतकर्ता नेहा ने काजल नाम की महिला को घरेलू फर्नीचर बेचा था और जब वह अपने पति के साथ खरीदार के पास गई और पैसे मांगे, तो महिला ने उनके खिलाफ पुलिस में छेड़छाड़ और मारपीट की शिकायत दर्ज करा दी। मामले की जांच एसआई जयकरण और एएसआई किरण को सौंपी गई। दोनों आरोपी अधिकारी मामले का निपटारा कराने के एवज में 60 हजार रुपये की मांग कर रहे थे।

 

 

ब्यूरो की टीम ने सुधीर वासदेव की शिकायत पर नगर निगम फरीदाबाद के कनिष्ठ अभियंता कपिल भारद्वाज के साथ ट्यूबवेल हेल्पर योगेश कुमार को 1 लाख रुपये रिश्वत लेते रंगेहाथ पकड़ा है। आरोपित ट्यूबवेल हेल्पर ने शिकायतकर्ता द्वारा बनाए जा रहे भवन को नहीं गिराने पर कनिष्ठ अभियंता के नाम पर तीन लाख रुपये घूस की मांग की थी। शिकायतकर्ता रिश्वत नहीं देना चाहता था उसने ब्यूरो में इस संबंध में शिकायत दर्ज कराई। सूचना की पुष्टि के बाद एक टीम ने रेड करते हुए दोनों आरोपियों को एक लाख रुपये लेते हुए पकड़ लिया।

 

 

फरीदाबाद से एक विजिलेंस टीम ने शिकायतकर्ता के राशन कार्ड में सुधार करने के एवज में 2,000 रुपये रिश्वत लेते हुए एक निजी व्यक्ति अंकुर सोनी को गिरफ्तार किया।          आरोपियों के खिलाफ ब्यूरो के संबंधित थानों में मामला दर्ज किया गया है। आगे की जांच की जा रही है। भ्रष्टाचार के खिलाफ चल रहे अभियान के तहत, ब्यूरो द्वारा इस वर्ष के दौरान अब तक 50000 रुपये से लेकर 5 लाख रुपये तक की रिश्वत लेते हुए कई उच्च पदस्थ अधिकारियों सहित 66 सरकारी अधिकारियों व कर्मचारियों को रंगे हाथों काबू किया गया है।

Related Story

Test Innings
England

India

134/5

India are 134 for 5

RR 3.72
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!