चाबहार पोर्ट के जरिए व्यापार बढ़ाने की कोशिश में ईरान

Edited By Tanuja,Updated: 25 Jul, 2022 12:01 PM

chabahar port allows iran to emerge as hub for trade amid global sanctions

अमेरिका के कड़े प्रतिबंधों के बीच ईरान अपना व्यापार बढ़ाने  के लिए  भारत द्वारा विकसित चाबहार बंदरगाह को केंद्र बनाकर मध्य एशियाई...

 इंटरनेशनल डेस्कः अमेरिका के कड़े प्रतिबंधों के बीच ईरान अपना व्यापार बढ़ाने  के लिए  भारत द्वारा विकसित चाबहार बंदरगाह को केंद्र बनाकर मध्य एशियाई देशों से व्यापार संपर्क बनाना चाहता है। उल्लेखनीय है कि चाबहार से भारत, पाकिस्तान, अफगानिस्तान, किर्गिस्तान और उज्बेकिस्तान की दूरी बहुत कम है। चाबहार बंदरगाह दक्षिण-पूर्व ईरान में ओमान की खाड़ी के मुहाने पर स्थित है। यहां से भारत में व्यापार के लिए माल भेजने में  समय और किराया कम लगेगा।

 

अमेरिकी प्रतिबंधों और उसके कारण पश्चिमी देशों के कम होते निवेश के चलते ईरान की आर्थिक स्थिति कमजोर होती जा रही है। उससे उबरने के लिए ईरान अपने व्यापार विकल्पों पर गंभीरता से विचार कर रहा है। चीन से व्यापार बढ़ाने के साथ ही ईरान भारत और मध्य एशियाई देशों से व्यापार बढ़ाना चाहता है। यह जानकारी राजनीतिक विश्लेषक वेलेरियो फाबरी ने रूस की अंतरराष्ट्रीय मामलों की परिषद को भेजी रिपोर्ट में कही है। हाल ही में भारत और मध्य एशियाई देशों के सम्मेलन में भारत और ईरान ने चाबहार बंदरगाह के जरिये व्यापार बढ़ाने की पहल की है। इसके लिए नियमों और कर प्रणाली को आसान बनाया गया है।

 

बता दें कि भारत चाबहार बंदरगाह का विकास कर रहा है और यहां से अपना व्यापार बढ़ाना चाहता है। किर्गिस्तान के वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार चाबहार से व्यापार में उनके देश को बड़ा लाभ होगा। जलमार्ग से भारत से किर्गिस्तान माल आने में इस समय 30 से 45 दिन का समय लगता है। चाबहार बंदरगाह शुरू होने पर यह समय कम होकर 14-15 दिन हो जाएगा। इसके कारण माल भाड़ा भी कम लगेगा। चाबहार बंदरगाह के क्षेत्रीय व्यापार का केंद्र बनने से ईरान, भारत और क्षेत्रीय देशों को बड़ा लाभ होगा।

 
 

Related Story

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!