चीन की अमेरिका को खुली धमकी- पेलोसी लड़ाकू विमानों के साथ ताइवान में घुसीं तो होगा बुरा अंजाम

Edited By Tanuja,Updated: 30 Jul, 2022 11:52 AM

china warns of  military action  if nancy pelosi visits taiwan

अमेरिकी कांग्रेस (संसद) के हाउस ऑफ रिप्रजेंटेटिव की स्पीकर नैंसी पेलोसी की संभावित ताइवान यात्रा ने चीन और अमेरिका के बीच तनाव और बढ़ा दिया...

बीजिंग: अमेरिकी कांग्रेस (संसद) के हाउस ऑफ रिप्रजेंटेटिव की स्पीकर नैंसी पेलोसी की संभावित ताइवान यात्रा ने चीन और अमेरिका के बीच तनाव और बढ़ा दिया है। पेलोसी शुक्रवार को ताइवान की यात्रा कर सकती है जिसे लेकर चीन  भड़का हुआ है और खुली धमकियों पर उतर आया है। चीन ने कहा है कि अगर स्पीकर के साथ अमेरिकी सेना के फाइटर जेट ताइवान में घुसते हैं तो वे उन्हें मार गिराने में कोई संकोच नहीं करेंगे। गुरुवार को अमेरिका और चीन के राष्ट्रपतियों ने फोन पर लंबी बात की थी जिसने तनाव को कम करने के बजाय और बढ़ा दिया था।

 

चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स के कमेंटेटर हू ज़िजिन ने ट्विटर पर लिखा, 'अगर अमेरिकी सेना के लड़ाकू विमान ताइवान में पेलोसी के प्लेन को एस्कॉर्ट करते हैं तो यह आक्रमण होगा। पीएलए को चेतावनी के रूप में गोलीबारी करके या दूसरे तरीकों से पेलोसी के प्लेन और अमेरिकी लड़ाकू विमानों को बलपूर्वक रोकने का अधिकार है। अगर ये प्रभावी नहीं होता है तो उन्हें मार गिरा दें।' इससे पहले चीन ने अमेरिका को 'रेड लाइन' पार न करने की चेतावनी दी थी।

 

इससे पहले बाइडेन और जिनपिंग के बीच गुरुवार को फोन पर 2 घंटे 17 मिनट तक बातचीत हुई। बाइडेन ने जिनपिंग से कहा कि ताइवान को लेकर अमेरिका की नीतियों में बदलाव नहीं आया है। वहीं जिनपिंग ने न सिर्फ बाइडन को खूब सुनाया बल्कि बातचीत के बाद एक लंबा-चौड़ा बयान भी जारी किया जिसमें चीन का लहजा धमकीभरा था। जिनपिंग ने कहा, 'आग से खेलने वाले जल जाते हैं। उम्मीद है कि अमेरिका इस पर स्पष्ट नजर रखेगा। अमेरिका को एक-चीन सिद्धांत का सम्मान करना चाहिए और इसे अपने बयान और कार्य दोनों में लागू करना चाहिए।' बयान में चीन ने ताइवान जलक्षेत्र पर अपना दावा किया।

 

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजिन ने शुक्रवार को एक मीडिया ब्रीफिंग में कहा कि अगर पेलोसी ताइवान आती हैं तो अमेरिका को इसके 'नतीजे भुगतने' के लिए तैयार रहना होगा। वहीं पेंटागन के प्रेस सचिव जॉन किर्बी ने शुक्रवार को कहा कि हमें किसी तरह का सैन्य खतरा नजर नहीं आ रहा है। उन्होंने कहा कि हमारे पास इस बात के पुख्ता सबूत नहीं हैं कि चीन की ओर से सैन्य दृष्टिकोण से कुछ पक रहा है।

 

हालांकि किर्बी ने इसकी पुष्टि नहीं की कि पेलोसी अपनी एशिया यात्रा के दौरान ताइवान जाएंगी या नहीं, जिसमें वह जापान, साउथ कोरिया, मलेशिया और सिंगापुर की यात्रा करेंगी। शुक्रवार को ताइवान की संभावित यात्रा को लेकर एक सवाल के जवाब में पेलोसी ने सिर्फ कहा, 'मैं अपनी यात्रा के बारे में बात नहीं करूंगी क्योंकि यह सुरक्षा मुद्दे से जुड़ा है।' लेकिन उनके ताइवान जाने की संभावनाओं ने तनाव को बढ़ा दिया है। चीनी नौसेना साउथ चाइना सी में यूएसएस रोनाल्ड रीगन एयरक्राफ्ट कैरियर की गतिविधियों की निगरानी कर रही है।
 

Related Story

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!