अंतरिक्ष से आफत आती देख उड़े लोगों के होश ! धरती पर फिर गिरा चीनी रॉकेट का मलबा

Edited By Tanuja,Updated: 31 Jul, 2022 11:02 AM

huge chinese rocket debris crashes over indian ocean

चीन की वजह से एक बार फिर दुनिया पर खतरा मंडराने लगा है। शनिवार को ऐसा ही एक खतरा आसमान में नजर आया जब चीन के एक रॉकेट का मलबा...

बीजिंग: चीन की वजह से एक बार फिर दुनिया पर खतरा मंडराने लगा है। शनिवार को ऐसा ही एक खतरा आसमान में नजर आया जब चीन के एक रॉकेट का मलबा हिंद व प्रशांत महासागर के ऊपर धरती पर क्रैश हुआ। इसकी जानकारी अमेरिकी व चीनी अधिकारियों ने दी है। अंतरिक्ष से गिर रही इस आफत को देखकर लोगों के होश उड़ गए। दरअसल धरती से लॉन्च  सैटेलाइट और रॉकेट अंतरिक्ष में जाकर कुछ समय बाद मलबा बन जाते हैं। ये मलबा न सिर्फ सक्रिय उपग्रहों और स्पेस मिशन के लिए घातक होता है बल्कि धरतीवसियों के लिए भी खतरनाक साबित हो सकता है। 

 

चीन की स्पेस एजेंसी ने कहा कि लॉन्ग मार्च 5 रॉकेट के ज्यादातर हिस्से वायुमंडल में ही जल गए। रॉकेट के मलबे ने प्रशांत महासागर के सुलु सागर के ऊपर पृथ्वी में दोबारा प्रवेश किया। इससे पहले अंतरिक्ष विशेषज्ञों ने कहा था कि मलबे के किसी आवासीय इलाके पर गिरने की संभावना बेहद कम है। अनियंत्रित तरीके से धरती पर गिरे रॉकेट के मलबे ने स्पेस कचरे की जिम्मेदारी को लेकर सवाल खड़े कर दिए हैं। सोशल मीडिया पर शेयर किए गए वीडियो में जलता हुआ मलबा धरती पर गिरता देखा जा सकता है।

 

इससे पहले अमेरिकी स्पेस एजेंसी नासा ने चीन की स्पेस एजेंसी से अंतरराष्ट्रीय मानदंडों के अनुसार ऐसे रॉकेट डिजाइन करने के लिए कई बार कहा है जो धरती पर गिरते समय छोटे-छोटे टुकड़ों में टूट जाए। यूएस स्पेस कमांड ने एक ट्वीट में कहा, '7 जुलाई को करीब 10:45 am MDT बजे लॉन्ग मार्च 5 हिंद महासागर के ऊपर पृथ्वी पर लौटा।' चीनी स्पेस एजेंसी की ओर से दिए कॉर्डिनेट्स के मुताबिक रॉकेट के पृथ्वी पर दोबारा लौटने की जगह सुलु सागर में फिलीपीन के पलावन द्वीप के पूर्व में थी।

 

चीन के निर्माणाधीन स्पेस स्टेशन, टियांगोंग की ओर जाने वाले हाल के रॉकेटों को धरती पर गिरते समय नियंत्रित नहीं किया जा सकता। हालिया लॉन्च पिछले रविवार को हुआ था जब लॉन्ग मार्च 5 रॉकेट ने एक लैब मॉड्यूल को स्पेस स्टेशन तक पहुंचाया था। चीनी सरकार ने बुधवार को कहा कि रॉकेट के धरती के लौटने से किसी को कोई भी खतरा नहीं होगा क्योंकि इसके समुद्र में गिरने की संभावना है। हालांकि मलबे के रिहायशी इलाके पर गिरने की संभावना भी थी। मई 2020 में इसी तरह के एक मलबे ने आइवरी कोस्ट पर कई संपत्तियों को नुकसान पहुंचाया था।
 

Related Story

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!