अमरीका में जूल लैब्स की  ई- सिगरेट पर प्रतिबंध लगाने की तैयारी

Edited By Anil dev, Updated: 23 Jun, 2022 11:26 AM

international news punjab kesari usa fda e cigarettes fda

अमरीकी खाद्य एवं औषधि प्रशासन (एफडीए) ने  इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट बनाने वाली सबसे बड़ी कंपनी जुल लैब्स इंक को मार्केट से अपनी ई- सिगरेट हटाने की तैयारी कर ली है। वॉल स्ट्रीट जर्नल ने मामले से जुड़े जानकारों के हवाले से कहा है कि यूएस फूड एंड ड्रग...

इंटरनेशनल डैस्क: अमरीकी खाद्य एवं औषधि प्रशासन (एफडीए) ने  इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट बनाने वाली सबसे बड़ी कंपनी जुल लैब्स इंक को मार्केट से अपनी ई- सिगरेट हटाने की तैयारी कर ली है। वॉल स्ट्रीट जर्नल ने मामले से जुड़े जानकारों के हवाले से कहा है कि यूएस फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन जूल लैब्स इंक के ई-सिगरेट को बाजार से हटाने का आदेश देने के लिए तैयार हो रहा है। इस खबर से जूल की सहयोगी कंपनी अल्ट्रिया ग्रुप इंक के शेयरों में गिरावट दर्ज की गई है।

 मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक टिप्पणी के लिए जूल के प्रतिनिधियों से तुरंत संपर्क नहीं किया जा सका है। जबकि एफडीए के प्रतिनिधियों ने टिप्पणी के अनुरोध का जवाब नहीं दिया। एफडीए ने आलोचना के बाद ई-सिगरेट के लिए फ्रूटी और स्वीटी फ्लेवरों की बिक्री पर प्रतिबंध लगा दिया था कि उत्पादों को नाबालिगों पर लक्षित किया गया था। नियामकों ने उत्पादों के लिए हजारों आवेदनों की समीक्षा की है,जो एक अनियंत्रित बाज़ार बन गए थे।

अल्ट्रिया ग्रुप इंक की है 35% हिस्सेदारी
हाल ही में सिक्योरिटीज फाइलिंग के अनुसार जूल के सबसे बड़े बैकर्स में मार्लबोरो निर्माता अल्ट्रिया ग्रुप इंक है, जिसकी कंपनी में 35% हिस्सेदारी है। पिछले कुछ वर्षों में अल्ट्रिया ने 1.6 बिलियन डॉलर में अपनी हिस्सेदारी का मूल्यांकन किया है। बुधवार को न्यूयॉर्क के कारोबार में अल्ट्रिया के शेयरों में 10% तक की गिरावट आई। अल्ट्रिया के एक प्रवक्ता ने टिप्पणी करने से इनकार कर दिया। इस साल की शुरुआत में एफडीए ने जूल के प्रतिद्वंद्वी एनजेओवाई इंक द्वारा बनाए गए कुछ उत्पादों को बाजार में बने रहने की अनुमति दी, और पिछले साल ब्रिटिश अमरीकन टोबैको पीएलसी के ई-सिगरेट वी यूज को अधिकृत किया। कुछ पर्यवेक्षकों ने उम्मीद की थी कि कंपनी और नियामकों के बीच वर्षों के आगे-पीछे के बाद जुल को एफडीए का समर्थन हासिल होगा।

बीमारियां होने का जताया जा रहा है अंदेशा
नियामकों ने आशा व्यक्त की है कि ई-सिगरेट धूम्रपान करने वालों के लिए एक विकल्प पेश कर सकता है जो पारंपरिक तंबाकू उत्पादों का उपयोग छोड़ने की कोशिश कर रहे हैं, और जूल का उपकरण कुछ वयस्कों के साथ लोकप्रिय रहा है, जो कहते हैं कि इससे उन्हें सिगरेट की आदत को छोड़ने में मदद मिली।  सार्वजनिक-स्वास्थ्य अधिकारियों ने कम उम्र के वाष्प की महामारी का भी दस्तावेजीकरण किया है, जिससे उन्हें डर है कि निकोटीन ने उपयोगकर्ताओं की एक नई पीढ़ी को झुका देगा। फेफड़ों को नुकसान पहुंचाने वाली गंभीर बीमारी से डरने सहित अन्य स्वास्थ्य मुद्दों को भी ई-सिगरेट से जोड़ा गया है। एक बार वैश्विक महत्वाकांक्षाओं के साथ एक समृद्ध मूल्यवान स्टार्टअप जूल को पिछले कुछ वर्षों में कई असफलताओं का सामना करना पड़ा है।

जूल के विज्ञापन की भी हो रही है जांच
जूल के यूएसबी जैसी डिवाइस, आकर्षक विज्ञापन और फ्रूटी फ्लेवर ने वापिंग के साथ-साथ कंपनी के विपणन से जुड़े स्वास्थ्य जोखिमों के बारे में सवाल उठाए हैं। जबकि जूल ने कहा है कि उसने कभी भी बच्चों को ई-सिगरेट बेचने की मांग नहीं की। निकटवर्ती कंपनी को नाबालिगों को लक्षित करने का आरोप लगाते हुए हजारों मुकदमों का सामना करना पड़ रहा है। दर्जनों राज्य जूल के विज्ञापन की भी जांच कर रहे हैं। जर्नल रिपोर्ट के मुताबिक कंपनी एजेंसी के माध्यम से एफडीए के फैसले खिलाफ अपील कर सकती है या अदालत में चुनौती दे सकती है। कंपनी द्वारा संशोधित अनुमोदन आवेदन दायर करने की भी संभावना है। जूल अभी भी विदेशों में कुछ बाजारों में ई-सिगरेट बेचता है।

Related Story

Test Innings
England

India

Match will be start at 01 Jul,2022 04:30 PM

img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!