चीन में कोरोना पाबंदियां हुईं और सख्त; सामान की डिलीवरी लेने पर भी रोक, घरों में कैद तड़प रहे करोड़ों लोग

Edited By Tanuja, Updated: 10 May, 2022 02:48 PM

like a prison shanghai beijing ratchet up covid restrictions

कोविड-19 महामारी के कारण एक महीने के सख्त लॉकडाउन से उबर रहे शंघाई में अधिकारियों ने एक बार फिर वायरस रोधी पाबंदियां कड़ी कर दी हैं...

बीजिंगः कोविड-19 महामारी के कारण एक महीने के सख्त लॉकडाउन से उबर रहे शंघाई में अधिकारियों ने एक बार फिर वायरस रोधी पाबंदियां कड़ी कर दी हैं।  कई जिलों में जारी नोटिस में कहा गया कि निवासियों को घर में रहने का आदेश दिया गया है और कम से कम बुधवार तक चलने वाली इस अवधि के दौरान गैर-जरूरी आपूर्तियां प्राप्त करने पर रोक लगाई गई है। नोटिस के मुताबिक बड़े पैमाने पर होने वाली जांच के नतीजों के आधार पर सख्त उपायों की अवधि को बढ़ाया भी जा सकता है। हुआंगपु जिले में जारी एक नोटिस में कहा गया, “आपकी समझ व सहयोग के लिये धन्यवाद। साथ मिलकर हम जल्द लॉकडाउन खत्म कर सकते हैं।”

PunjabKesari

 चीन ने मामलों में लगातार गिरावट के बावजूद बढ़ाई सख्ती
यह स्पष्ट नहीं है कि किस वजह से नए सिरे से सख्ती बरतने की जरूरत पड़ी जबकि शहर में कोविड-19 के मामलों में लगातार गिरावट देखी जा रही है। शंघाई में सोमवार को बीते 24 घंटों के दौरान 3,947 नए मामले सामने आए और 11 लोगों की मौत हो गई। नए मामलों लगभग सभी में बीमारी के लक्षण नहीं थे। 2.5 करोड़ निवासियों वाले शहर में अधिकारी क्रमिक रूप से पृथकवास नियमों को हटा रहे हैं लेकिन ऐसा लग रहा है कि नया आदेश बीमारी के शुरुआती चरण में लौटने का संकेत है। शंघाई ने शुरू में एक सीमित लॉकडाउन के साथ बड़े पैमाने पर जांच का आदेश दिया था, लेकिन मामलों की संख्या बढ़ने पर इसे (लॉकडाउन) बढ़ा दिया गया।

 

हजारों लोग केंद्रीकृत पृथकवास केंद्रों में रहने को मजबूर
संक्रमित पाए जाने या केवल एक संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने के कारण हजारों निवासियों को केंद्रीकृत पृथकवास केंद्रों में रहने को मजबूर किया गया। सोशल मीडिया के जरिये संपर्क किए जाने पर शंघाई के दो निवासियों ने कहा कि उनके पास नई पाबंदियों को लेकर पूर्व में कोई सूचना नहीं थी। उन्हें बताया गया है कि नई पाबंदियां एक हफ्ते तक रह सकती हैं। एक टेक्नोलॉजी कंपनी में शोधकर्ता झांग चेन ने कहा, “हम तैयार नहीं थे।” उन्होंने कहा, “मैंने अपना बैग पैक कर लिया है” यह सोचते हुए कि पृथकवास केंद्र ले जाने का अगला नंबर उनका होगा। लू उपनाम वाली एक विपणन पेशेवर ने पश्चिमी पुडोंग जिले में कहा कि लॉकडाउन में जीने के खर्चे लगातार बढ़ रहे हैं जबकि जीवन की गुणवत्ता घट रही है। उन्होंने कहा, “हर बार, वे कहते हैं कि कुछ दिनों में लॉकडाउन से छूट मिल जाएगी, लेकिन इसका कोई अंत नजर नहीं आता।”

PunjabKesari

घरों के बाहर रेजिडेंटल एरिया में घूमने पर भी बैन
 शंघाई में लगातार 6 हफ्तों से लॉकडाउन जारी है। बताया जा रहा है कि यहां संक्रमण को रोकने के लिए प्रतिबंधों को और कड़ा किया गया है. हालांकि, इसे लेकर कोई आधिकारिक घोषणा नहीं हुई है।  शंघाई के 16 जिलों में से चार में लोगों को सप्ताह के आखिर में नोटिस दिया गया है कि वे अपने घरों से बाहर नहीं जा सकते, न ही डिलीवरी ले सकते हैं। हालांकि, इससे पहले लोगों को घरों के बाहर रेजिडेंटल एरिया में घूमने की इजाजत थी।

 

 नए प्रतिबंधों का विरोध हुआ  तेज
उधर, रविवार को लगाए गए नए प्रतिबंधों का विरोध भी तेज हो गया है। शंघाई की रहने वाले कोको वांग ने कहा, यह जेल की तरह है. हमें कोरोना वायरस से नहीं, नीतियों से डर लगता है।  इसी बीच, बीजिंग में भी अब तक सबसे गंभीर प्रतिबंधों का ऐलान किया गया है। यहां के दक्षिण-पश्चिम में सोमवार को सभी नागरिकों से बाहर निकलने के लिए मना कर दिया गया। इतना ही नहीं वायरस को फैलने से संबंधित सभी गतिविधियों की भी मनाही की गई है। चीन की कोरोना के खिलाफ जीरो कोविड पॉलिसी पर भी सवाल उठने लगे हैं। 

 

PunjabKesari

चीन की निर्यात वृद्धि  दो वर्षों में सबसे कमजोर स्थिति में पहुंची
बताया जा रहा है कि चीन के कड़े प्रतिबंधों का असर उसकी अर्थव्यवस्था पर भी पड़ने लगा है। सोमवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक, चीन की निर्यात वृद्धि लगभग दो वर्षों में सबसे कमजोर स्थिति में पहुंच गई है। इतना ही नहीं चीन के अन्य बिजनेस पर भी कोरोना का असर पड़ा है। उधर, चीन इस बात पर अडिग है कि उसकी जीरो कोविड पॉलिसी कोरोना से लड़ने के लिए है। चीन के वुहान में भी कोरोना का पहला केस मिला था। प्रशासन ने लोगों को इस नीति की आलोचना के खिलाफ चेतावनी दी है. उनका कहना है कि ये नीति लोगों के जीवन को बचाने के लिए है। 

Related Story

Trending Topics

Indian Premier League
Kolkata Knight Riders

Lucknow Super Giants

Match will be start at 18 May,2022 07:30 PM

img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!