पाकिस्तान सरकार को झटकाः कबायली परिषद और TTP नेताओं के बीच वार्ता गतिरोध से समाप्त

Edited By Tanuja,Updated: 02 Aug, 2022 02:03 PM

peace talk between pak tribal council leaders and ttp reaches deadlock

पाकिस्तान के खैबर-पख्तूनख्वा प्रांत से कबायली परिषद के नेताओं के 17 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल और प्रतिबंधित तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान...

इस्लामाबाद: पाकिस्तान के खैबर-पख्तूनख्वा प्रांत से कबायली परिषद के नेताओं के 17 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल और प्रतिबंधित तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान (TTP) के बीच अफगानिस्तान में वार्ता गतिरोध के बीच समाप्त हो गई। इससे अशांत सीमावर्ती क्षेत्र में लगभग दो दशकों से जारी आतंकवाद समाप्त करने के पाकिस्तान सरकार के प्रयासों को झटका लगा है। समाचारपत्र ‘एक्सप्रेस ट्रिब्यून' ने सोमवार को बताया कि ताजा गतिरोध तब उत्पन्न हुआ जब संगठन ने तत्कालीन संघीय प्रशासित कबायली क्षेत्रों के खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के साथ विलय को वापस लेने की अपनी मांग से पीछे हटने से इनकार कर दिया।

 

खबर में कहा गया है कि संगठन ने शांति समझौते के मूर्त रूप लेने की स्थिति में हथियार डालने से भी इनकार कर दिया है। खैबर पख्तूनख्वा के मुख्यमंत्री के विशेष सहायक बैरिस्टर मोहम्मद अली सैफ के नेतृत्व में प्रतिनिधिमंडल शनिवार को काबुल पहुंचा था। प्रतिनिधिमंडल की यह यात्रा ऐसे समय हुई है जब पाकिस्तानी धार्मिक विद्वानों का एक दल, एक दिन पहले TTP नेतृत्व के साथ बैठक के बाद अफगानिस्तान से स्वदेश लौटा है।

 

वार्ता का दूसरा दौर ऐसे समय हुआ जब पाकिस्तान सरकार और TTP लगभग दो दशकों के आतंकवाद को समाप्त करने के लिए बातचीत जारी रखते हुए संघर्ष विराम का विस्तार अनिश्चित काल के लिए करने पर पिछले महीने सहमत हुए थे। प्रतिनिधिमंडल की इस यात्रा का उद्देश्य यह था कि इन मौलवियों का उपयोग टीटीपी को मांगों को वापस लेने के लिए राजी करने में किया जाए। पाकिस्तान ने पिछले साल अक्टूबर में अफगान तालिबान के अनुरोध पर इस मुद्दे का राजनीतिक समाधान तलाशने के लिए टीटीपी के साथ बातचीत शुरू की थी। 

Related Story

Trending Topics

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!