कांग्रेस पर भाजपा का पलटवार, 'महंगाई, बेरोजगारी तो बहाना', मकसद ED को डराना और परिवार को बचाना

Edited By Yaspal,Updated: 05 Aug, 2022 06:23 PM

bjp s counterattack on congress  inflation unemployment is an excuse

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने शुक्रवार को कहा कि महंगाई और बेरोजगारी के खिलाफ कांग्रेस के प्रदर्शन का मुख्य उद्देश्य गांधी परिवार को ‘‘बचाना'' है। पार्टी ने कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी पर पलटवार करते हुए कहा कि चुनावों में कांग्रेस की...

नई दिल्लीः भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने शुक्रवार को कहा कि महंगाई और बेरोजगारी के खिलाफ कांग्रेस के प्रदर्शन का मुख्य उद्देश्य गांधी परिवार को ‘‘बचाना'' है। पार्टी ने कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी पर पलटवार करते हुए कहा कि चुनावों में कांग्रेस की लगातार हार का ‘‘ठीकरा'' उन्हें भारतीय लोकतंत्र पर नहीं फोड़ना चाहिए।

केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा कि संसद से सड़क तक कांग्रेस द्वारा प्रदर्शन करने से उनके नेताओं के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोपों का ‘‘सच'' झूठ में नहीं तब्दील हो जाएगा। उन्होंने कहा, ‘‘भ्रष्टाचार करने के बाद वह सरकार और एजेंसियों पर दबाव डालने का प्रयास कर रहे हैं। भाजपा 2014 में सत्ता में आई थी और उसने भ्रष्टाचार मुक्त शासन का वादा किया था। प्रधानमंत्री मोदी ने पिछले आठ वर्षों में ऐसा कर दिखाया है। जांच एजेंसियां पहले किए गए भ्रष्टाचारों के खिलाफ कदम उठा रही हैं।'' उन्होंने कहा, ‘‘क्या जांच एजेंसियों को अपना काम रोक देना चाहिए? क्या कुछ राजनीतिक दलों को भ्रष्टाचार करने की अनुमति दी जानी चाहिए?‘‘

ठाकुर ने कहा कि राहुल गांधी और कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाद्रा को ईडी के काम में व्यवधान नहीं पैदा करना चाहिए। उन्होंने दावा किया कि केंद्रीय एजेंसियां किसी भी राजनीतिक दबाव में काम नहीं करती हैं और वे स्वतंत्र रूप से अपने कर्तव्यों का निर्वहन करती हैं। पार्टी के प्रदर्शन के दौरान राहुल और प्रियंका को आज हिरासत में लिया गया।

इससे पहले, राहुल ने संवाददाता सम्मेलन में महंगाई, बेरोजगारी और सामाजिक हालात को लेकर केंद्र सरकार पर तीखा प्रहार किया और दावा किया कि ‘भारत में लोकतंत्र की मौत हो रही है' तथा सिर्फ चार लोगों की तानाशाही है। राहुल के संवाददाता सम्मेलन के ठीक बाद पूर्व केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ने आज जो बयान दिए हैं, वे ‘‘शर्मनाक और गैरजिम्मेदाराना'' हैं। उन्होंने राहुल को याद दिलाया कि वह उनकी दादी प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ही थीं, जिन्होंने देश पर आपातकाल थोपा था और लोगों के लोकतांत्रिक अधिकारों का हनन किया था।

कांग्रेस नेता को आड़े हाथों लेते हुए प्रसाद ने कहा, ‘‘अपने भ्रष्टाचार और गलत कामों को बचाने के लिए भारत की संस्थाओं को बदनाम करना बंद कीजिए... जनता आपको नहीं सुन रही है, तो आप हमें क्यों दोष दे रहे हैं।'' भाजपा नेता ने सवाल किया कि उनकी पार्टी को लोकतंत्र की नसीहत देने वाले राहुल गांधी को देश को यह बताना चाहिए कि क्या उनकी पार्टी में लोकतंत्र है? उन्होंने कहा, ‘‘कांग्रेस पार्टी को अगर जनता वोट नहीं देती है, तो कृपया करके लोकतंत्र पर क्यों ठीकरा फोड़ रहे हैं?''

प्रसाद ने कहा कि राहुल गांधी ने वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ क्या-क्या नहीं कहा था, बावजूद इसके देश ने ‘‘उन्हें खारिज'' कर दिया और भाजपा को पहले से भी अधिक सीट दिलाकर जिताया। राहुल के खिलाफ नेशनल हेराल्ड मामले में जारी ईडी की जांच का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि अखबार पर 80 करोड़ रुपये से ऊपर की देनदारी थी और 2010 में एसोसिएटेड जर्नल ने इसका पूरा शेयर यंग इंडिया को दे दिया।

प्रसाद ने आरोप लगाया, ‘‘इसी यंग इंडिया में 38 प्रतिशत हिस्सेदारी सोनिया गांधी और 38 प्रतिशत हिस्सेदारी राहुल गांधी की थी। इन्होंने सिर्फ 50 लाख रुपये नेशनल हेराल्ड को दिए और कांग्रेस ने 80 करोड़ रुपये का लोन माफ कर दिया। करीब 5,000 करोड़ रुपये की नेशनल हेराल्ड की संपत्ति इस ‘फैमली कंट्रोल ट्रस्ट' के नाम लाई गई।'' उन्होंने कहा कि राहुल गांधी और सोनिया गांधी ने इस मामले में दिल्ली उच्च न्यायालय और उच्चतम न्यायालय का दरवाजा खटखटाया, लेकिन वहां भी उनकी अर्जी खारिज कर दी गई और बाद में उन्हें जमानत लेनी पड़ी।

प्रसाद ने कहा कि राहुल गांधी ने जो किया है, उसका खामियाजा उन्हें भुगतना पड़ेगा। भाजपा नेता ने दावा किया कि आज नरेंद्र मोदी की अगुवाई में सत्ता के गलियारों में बिचौलियों के लिए दरवाजे बंद हो चुके हैं। उन्होंने आरोप लगाया, ‘‘कांग्रेस का लोकतंत्र, भ्रष्टाचारतंत्र था। आज नरेंद्र मोदी की अगुवाई में सत्ता के गलियारों में बिचौलियों के लिए दरवाजे बंद हैं। रक्षा सौदों में कोई कमीशन नहीं लगता। कांग्रेस और उनका भ्रष्टाचारी तंत्र इससे परेशान है। इसी की व्यथा राहुल गांधी की बातचीत में दिखती है।''

प्रसाद ने आरोप लगाया कि संसद में महंगाई पर चर्चा होती है, तो राहुल गांधी सदन में नहीं आते हैं और कांग्रेस बहिर्गमन कर जाती है। उन्होंने कहा कि महंगाई और बेरोजगारी की चर्चा कांग्रेस का एक बहाना है, लेकिन मूल रूप से पार्टी का उद्देश्य एजेंसियों को डराना, धमकाना और एक परिवार को बचाना है।

Related Story

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!