एयरफोर्स चीफ बोले- साइबर अटैक और अंतरिक्ष नए युद्धक्षेत्र बने, राष्ट्रीय सुरक्षा के सामने कई चुनौतियां

Edited By Seema Sharma,Updated: 24 Jun, 2022 04:19 PM

cyber attacks and space become the new battlefield iaf chief

भारतीय वायुसेना चीफ वी. आर. चौधरी ने कहा कि वैश्विक व्यवस्था (global settings) के सामने लगातार चुनौतियां बढ़ती जा रही हैं और नियमों का बहुत कम या कतई सम्मान नहीं किया जा रहा।

नेशनल डेस्क: भारतीय वायुसेना चीफ वी. आर. चौधरी ने कहा कि वैश्विक व्यवस्था (global settings) के सामने लगातार चुनौतियां बढ़ती जा रही हैं और नियमों का बहुत कम या कतई सम्मान नहीं किया जा रहा। उन्होंने कहा कि भारत को अपनी सामरिक प्राथमिकताओं का पुन: आकलन करना चाहिए और यह सुनिश्चित करने के लिए अपने कार्य फिर से व्यवस्थित करने चाहिए कि वह पीछे न छूट जाए। एयर चीफ मार्शल चौधरी ने राष्ट्रीय सुरक्षा के समक्ष विभिन्न चुनौतियों का जिक्र करते हुए कहा कि सैन्य रणनीतिकारों को ‘‘युद्ध लड़ने'' के प्राथमिक उद्देश्य को नहीं भूलना चाहिए। उनका यह बयान ऐसे समय में आया है, जब पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन के बीच सीमा विवाद जारी है, अफगानिस्तान में हालात खराब हैं और यूक्रेन में संकट के कारण भू-राजनीतिक उथल-पुथल पैदा हो गई है।

 

वायुसेना प्रमुख ने किसी देश का नाम लिए बगैर कहा कि जबरन कार्रवाई करना नई रणनीति बन गया है तथा साइबर, सूचना और अंतरिक्ष क्षेत्र ‘‘नए युद्धक्षेत्र'' बन गए हैं। उन्होंने कहा, ‘‘आज हम तेजी से बदलते अंतरराष्ट्रीय हालात देख रहे हैं, जिसे जटिल बहुध्रुवीय विश्व से मिलने वाली चुनौती बढ़ती जा रही है और नियमों या भू-राजनीतिक परस्पर गतिविधियों की पारंपरिक प्रक्रियाओं का बहुत कम या कोई सम्मान नहीं किया जा रहा।'' एयर चीफ मार्शल ने कहा कि कूटनीति, अर्थव्यवस्था और सूचना को संपर्क के ‘‘प्राथमिक उपकरण'' के रूप में इस्तेमाल किया जा रहा है और सैन्य उपकरण एक निवारक के रूप में इस्तेमाल किए जा रहे हैं।

 

उन्होंने एक सेमिनार में कहा, ‘‘जबरन कदम उठाना नई रणनीति बन गया है और साइबर, सूचना एवं अंतरिक्ष नए युद्ध क्षेत्र बन रहे हैं, इसलिए हमें अपनी सामरिक प्राथमिकताओं का फिर से आकलन करना चाहिए और यह सुनिश्चित करने के लिए अपने कदमों को फिर से व्यवस्थित करना चाहिए कि हम पीछे न छूट जाएं।'' भारतीय वायु सेना द्वारा आयोजित पहले ‘युद्धक और एयरोस्पेस रणनीति कार्यक्रम' (WASP) के समापन पर यह सेमिनार आयोजित किया गया था। वायु सेना प्रमुख ने उम्मीद जताई कि यह कार्यक्रम अधिकारियों को पूरी सरकार के दृष्टिकोण को समझने और राष्ट्रीय सुरक्षा के मामलों से निपटने में अपनी स्वतंत्र राय विकसित करने में मदद करेगा।

 

उन्होंने कहा, ‘‘हम मानते हैं कि कई विषयों से प्राप्त विचारों का संगम ऐसी महत्वपूर्ण सोच को जन्म दे सकता है जिससे कोई व्यक्ति समाधान खोजने के साथ-साथ अधिक तर्कसंगत और प्रभावी निर्णय लेने में सक्षम बन सकता है।'' वायु सेना प्रमुख ने कहा, ‘‘साथ ही एक सैन्य रणनीतिकार को अपने प्राथमिक उद्देश्य को नहीं भूलना चाहिए और वह उद्देश्य युद्ध लड़ना है, इसलिए युद्ध लड़ने की कला एवं विज्ञान की गहरी समझ विकसित करते हुए हमारा ध्यान अभियानगत स्तर के लिए अहम सोच और रणनीति पर रहना चाहिए।'' एयर चीफ मार्शल चौधरी ने कहा कि अच्छी तरह से तैयार की गई रणनीति सुरक्षा चुनौतियों से निपटने में सफलता की गारंटी नहीं दे सकती, लेकिन सुसंगत और स्थायी रणनीति नहीं होने पर विफलता तय है। 

Related Story

Trending Topics

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!