राहुल भट की हत्या के बाद शेखपुरा शिविर में कश्मीरी पंडितों का प्रदर्शन जारी, सुरक्षित स्थानों पर बसाने की मांग

Edited By rajesh kumar,Updated: 14 May, 2022 09:00 PM

demonstration of kashmiri pandits continues in sheikhpura camp

जम्मू-कश्मीर में कश्मीरी पंडितों को निशाना बनाकर हो रही हत्याओं के खिलाफ कश्मीरी पंडित कर्मचारियों के एक समूह ने शनिवार को भी बडगाम जिले में शेखपुरा ट्रांसिट शिविर में प्रदर्शन किया और समुदाय के लोगों ने उन्हें कश्मीर के बाहर सुरक्षित स्थानों पर...

नेशनल डेस्क: जम्मू-कश्मीर में कश्मीरी पंडितों को निशाना बनाकर हो रही हत्याओं के खिलाफ कश्मीरी पंडित कर्मचारियों के एक समूह ने शनिवार को भी बडगाम जिले में शेखपुरा ट्रांसिट शिविर में प्रदर्शन किया और समुदाय के लोगों ने उन्हें कश्मीर के बाहर सुरक्षित स्थानों पर बसाने की मांग की। अल्पसंख्यक समुदाय के राहुल भट की लश्कर ए तैयबा के आतंकवादियों ने बृहस्पतिवार को हत्या कर दी थी। कश्मीरी पंडितों की सुरक्षा के लिए सुरक्षाबलों के जवानों का एक दल शिविर के बाहर पहरा दे रहा था। हालांकि, प्रदर्शनकारियों ने दावा किया कि सुरक्षाबलों के जवानों ने उन्हें विरोध मार्च निकालने से रोका।

हमारी समस्या को कोई सामना नहीं किया जा रहा
शेखपुरा ट्रांसिट शिविर में राहुल भट और अन्य कश्मीरी पंडितों का घर है, जिन्हें 2008 में प्रधानमंत्री के रोजगार पैकेज के तहत वहां बसाया गया था। राहुल भट की हत्या के बाद यह शिविर विरोध प्रदर्शन का केंद्र बन गया है। महिलाओं समेत 100 से अधिक कश्मीरी पंडित कर्मचारियों के समूह ने शनिवार को भीषण गर्मी के बीच अस्थायी टैंटों में बैठकर विरोध प्रदर्शन किया। विमल नामक एक कश्मीरी पंडित कर्मचारी ने पीटीआई-भाषा से कहा, ‘‘यह केंद्र और केंद्र शासित प्रदेश दोनों ही सरकारों की विफलता है। यह अल्पसंख्यक समुदाय के नौवें सदस्य की हत्या है। हम बड़ी समस्याओं का सामना कर रहे हैं, लेकिन इसका कोई समाधान नहीं किया जा रहा है।''

उन्हें शिविर में बंद कर दिया गया है- कश्मीरी पंडित
उन्होंने कहा कि प्रवासी कर्मचारियों को स्वतंत्र रूप से काम करने के लिए एक सुरक्षित वातावरण बनाया जाना चाहिए। विमल ने कहा, ‘‘हमारे काम करने के लिए सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम होने चाहिए। हम इस तरह काम नहीं कर सकते हैं और इसलिए हम सामूहिक रूप से इस्तीफे देने की योजना बना रहे हैं।'' कश्मीरी पंडित कर्मचारियों ने आरोप लगाया है कि राहुल भट की हत्या के बाद उन्हें शिविर में बंद कर दिया गया है। उनकी मांग है कि ऐसे प्रतिबंधों को हटाया जाए। वेसु ट्रांजिट शिविर में रहने वाले कर्मचारियों का कहना है कि अगर अधिकारियों ने रविवार तक प्रतिबंधों के नहीं हटाया तो बडगाम के शेखपुरा में ट्रांजिट आवास तक मार्च का आयोजन होगा।

नजरबंदी और गिरफ्तारी का सामना करना पड़ रहा
प्रधानमंत्री रोजगार पैकेज के कर्मचारियों के मंच ने संभागीय आयुक्त पी के पोले को लिखे पत्र में कहा, ‘‘हम, वेसु ट्रांजिट शिविर के कर्मचारियों ने कल सुबह अपने भाइयों और बहनों के साथ एकजुटता से शेखपुरा और वीरवान कॉलोनी तक मार्च करने का फैसला किया है।'' उन्होंने कहा कि एकजुटता और समर्थन पाने के बजाय, प्रदर्शनकारी कर्मचारियों को राहुल भट हत्या के खिलाफ नाराजगी व्यक्त करने के लिए आंसू गैस के गोले, लाठीचार्ज, नजरबंदी और गिरफ्तारी का सामना करना पड़ रहा है।

Related Story

Trending Topics

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!