अमेरिका और भारत की सांझेदारी से कोविड के खिलाफ जीती जा सकती है वैश्विक जंग!

Edited By Seema Sharma, Updated: 06 Mar, 2022 10:19 AM

global war against covid can be won with the partnership of us india

जहां संयुक्त राज्य अमेरिका में ओमिक्रोन मामलों की संख्या घटती जा रही है और जीवन अधिक सामान्य लगने लगा है, कोरोना वायरस के अभी तक नए रूपों की संभावना हमें उन निरंतर खतरों की याद दिलाती है, जो महामारी से ग्रसित रही दुनिया की तस्वीर प्रस्तुत करती है।

नेशनल डेस्क: जहां संयुक्त राज्य अमेरिका में ओमिक्रोन मामलों की संख्या घटती जा रही है और जीवन अधिक सामान्य लगने लगा है, कोरोना वायरस के अभी तक नए रूपों की संभावना हमें उन निरंतर खतरों की याद दिलाती है, जो महामारी से ग्रसित रही दुनिया की तस्वीर प्रस्तुत करती है। ऐसे में वैश्विक महामारी के खिलाफ लड़ाई और सामान्य स्थिति की बहाली के लिए प्रभावी अंतर्राष्ट्रीय सहयोग की आवश्यकता होगी। कोविड-19 को नियंत्रित करने और एक और बड़े प्रकोप की संभावना को कम करने के लिए वैक्सीनेशन सबसे प्रभावी साधनों में से एक प्रतीत होता है।

 

दो जीवंत लोकतंत्रों के रूप में भारत और संयुक्त राज्य अमेरिका ने महामारी को नियंत्रित करने में विशेष रूप से महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है और यह भी संकेत दे दिए है कि  अमेरिका के साथ भारत की सांझेदारी कैसे कोविड के खिलाफ वैश्विक लड़ाई जीत सकती है। भारत ने टीकों की करीब 1.78 अरब से अधिक खुराकें दी हैं। भारत की 95 प्रतिशत से अधिक योग्य आबादी को एक covid-19 वैक्सीन की खुराक मिली है और 74 प्रतिशत से अधिक को पूरी तरह से टीका लगाया गया है। देश भर में 313,000 से अधिक टीकाकरण केंद्रों पर स्वास्थ्य देखभाल कर्मियों ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। यह न केवल भारत के लिए बल्कि दुनिया के लिए एक महत्वपूर्ण विकासात्मक कदम है।

 

अमरीकी संस्थान और भारतीय वैक्सीन कंपनियां
विश्वसनीय और किफायती covid-19 टीके विकसित करने के लिए अमेरिकी संस्थान और भारतीय वैक्सीन कंपनियां निकट सहयोग कर रही हैं। ह्यूस्टन में बायलर कॉलेज ऑफ मेडिसिन ने कॉर्बेवैक्स वैक्सीन पर भारत के जैविक ई के साथ सहयोग किया। यह पीटर होटेज और मारिया एलेना बोटाजी के नेतृत्व में वैज्ञानिकों की एक टीम द्वारा बनाया गया है। कॉर्बेवैक्स की लागत किफायती है और यह पेटेंट मुक्त है। आपातकालीन उपयोग के लिए इसे भारत में स्वीकृत किया गया है। सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया और मैरीलैंड स्थित फर्म नोवावैक्स ने कोवावैक्स का उत्पादन किया, जिसे डब्ल्यूएचओ की मंजूरी मिली है। मर्क की कोविड-19 दवा मोलनुपिरवीर का उत्पादन भारतीय कंपनियां 35 गुना कम कीमत पर कर रही हैं।

 

भारत के वैक्सीनेशन के प्रयास और अनुभव
भारत के वैक्सीनेशन के प्रयास और अनुभव विकासशील देशों सहित दुनिया भर में वैक्सीनेशन को और तेज करने में मदद कर सकते हैं। भारत ने एक जटिल भूगोल और विशाल जनसंख्या आधार की पृष्ठभूमि में एक प्रभावी टीकाकरण कार्यक्रम स्थापित किया है। प्रारंभ में भारत के राजनीतिक नेतृत्व ने वैक्सीन अभियान को चलाने के लिए प्रशासनिक ढांचे के निर्माण पर ध्यान केंद्रित किया। वैक्सीन निर्माताओं और वितरण के लिए एक सुचारू कार्यक्रम व वातावरण सुनिश्चित किया। फिर भारत ने यह सुनिश्चित किया कि वे टीके इलेक्ट्रॉनिक वैक्सीन इंटेलिजेंस नेटवर्क के माध्यम से अपने लोगों तक पहुंचे ताकि कोल्ड-चेन नेटवर्क को मजबूत और मॉनिटर किया जा सके। जहां कोविन प्लेटफॉर्म जिसने टीकों के लिए पहुंच और पंजीकरण को सरल बनाया वही दूसरी ओर ड्रोन ने देश के दूर-दराज के कोनों तक भी टीके पहुंचाए।

 

दूसरे देशों का टीके मुहैया करवाने में भारत सक्षम
दूसरा ऐसे समय में जब दुनिया को कोविड-19 टीकों की जरूरत है, भारत की अपने देश के भीतर टीके देने की क्षमता वैश्विक स्तर पर टीके देने की क्षमता को बढ़ाती है। भारत की उत्पादन क्षमताएं, अनुभव और मानव संसाधन दुनिया के बाकी उन 40 फीसदी लोगों को सस्ते टीके मुहैया करवाने में अहम भूमिका निभा सकती हैं जिन्हें अभी तक एक भी खुराक नहीं मिली है।
जैसा कि भारत ने घरेलू मोर्चे पर कोविड-19 के खिलाफ लड़ने की प्रगति को जारी रखा है, इसने कोवैक्स पहल के माध्यम से अन्य देशों में अपने टीकों के निर्यात को बढ़ा दिया है। यह एक महत्वपूर्ण प्रभाव डालेगा और महामारी को समाप्त करने में मदद करेगा। टीकाकरण में भारत की उपलब्धि सार्वजनिक स्वास्थ्य खतरों और अन्य साझा चुनौतियों से निपटने में वैश्विक भागीदारी की क्षमता को दर्शाती है। 

 

क्वाड देश वैक्सीन इनिशिएटिव के लिए प्रतिबद्ध
भारत का वैक्सीन रोल आउट, यू.एस. के कच्चे माल द्वारा सहायता प्राप्त है, भारत को महामारी की दूसरी लहर से निपटने के लिए अमेरिका सहित देशों से जो समर्थन मिला, वह स्थिति को नियंत्रण में लाने और त्वरित वैक्सीन उत्पादन की ओर हमारी ऊर्जा को केंद्रित करने में महत्वपूर्ण था। अमेरिका और भारत, जापान और ऑस्ट्रेलिया के साथ, क्वाड वैक्सीन इनिशिएटिव के लिए प्रतिबद्ध हैं, जिसमें 2022 के अंत तक भारत में कम से कम 1 बिलियन कोविड-19 टीकों के विस्तारित निर्माण और इंडो-पैसिफिक के देशों को उपलब्ध कराने की परिकल्पना की गई है।  इस पहल के तहत अमेरिका से जॉनसन एंड जॉनसन और भारत से बायोलॉजिकल ई एक साथ काम कर रहे हैं। विश्व व्यापार संगठन में अमेरिका और भारत अन्य देशों के साथ मिलकर कोविड टीकों के लिए ट्रेड रिलेटेड आस्पेक्ट्स ऑफ इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी राइट्स (टीआईआरपीएस) के तहत बौद्धिक संपदा छूट के लिए काम कर रहे हैं।

 

भारत महामारी को हराने के लिए प्रतिबद्ध
कोविड-19 महामारी से निपटने और भविष्य के सार्वजनिक स्वास्थ्य खतरों के लिए तैयार रहने के लिए भारत-यू.एस. के लिए स्वास्थ्य क्षेत्र में सहयोग के व्यापक अवसर हैं। संक्रामक रोग मॉडलिंग, भविष्यवाणी और पूर्वानुमान के साथ-साथ जैव सुरक्षा, डिजिटल स्वास्थ्य और व्यावसायिक स्वास्थ्य खतरों के प्रबंधन के लिए संस्थागत क्षमता के निर्माण जैसे क्षेत्रों में और सहयोग प्राप्त किया जा सकता है। वसुधैव कुटुम्बकम के प्राचीन भारतीय दर्शन  "दुनिया एक परिवार है" और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की "एक पृथ्वी, एक ही" की दृष्टि से निर्देशित  भारत इस महामारी को हराने के लिए अमेरिका और अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के अन्य भागीदारों के साथ काम करने के लिए प्रतिबद्ध है।

लेखक तरनजीत सिंह संधू एक भारतीय राजनयिक और संयुक्त राज्य अमेरिका में भारत के वर्तमान राजदूत हैं।

Related Story

Test Innings
England

India

Match will be start at 01 Jul,2022 04:30 PM

img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!