Mizoram Election 2018

मिजोरम चुनाव: मोदी-नेतन्याहू की गहरी दोस्ती दिला सकती है BJP को जीत

मिजोरम चुनाव: मोदी-नेतन्याहू की गहरी दोस्ती दिला सकती है BJP को जीत

एजल/लुंगेली: मिजोरम के प्रसिद्ध ईसाई नेता एवं पूर्व मंत्री रेव एच़ ललरुआता लुंगलेई ईस्ट से भाजपा के उम्मीदवार के रूप में चुनावी मैदान में उतरने से भगवा पार्टी को राजनैतिक वैधता दी है। रेव ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इजराइल के समर्थन और झुकाव की वजह से ही वह भाजपा में शामिल हुए हैं। रेव ने कहा कि वह भाजपा में ऑनलाइन माध्यम से शामिल हुए हैं। उन्होंने बताया कि वह मोदी के विकास के कार्यों, अमेरिका एवं इजराइल के साथ घनिष्ठ संबंधों और इजराइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू के साथ गहरी मित्रता से प्रभावित हुए हैं।

प्रधानमंत्री मोदी की अमेरिका एवं इजरायल समर्थित नीति से पूर्व पेंटेकोस्टल पादरी के अलावा कई लोग प्रभावित हुए हैं। एक 35 वर्षीय महिला मेरी विनचेस्टर जोलुट ने कहा कि हम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर विश्वास करते है कि वह इजराइल के साथ संबंध बनाकर अच्छा काम कर रहे हैं। भाजपा नेता एच. लालरुआता और अन्य लोगों ने कहा कि मूल मिजो निवासी भी यह देखकर खुश है कि मोदी सरकार कांग्रेस की विदेश नीति से अलग हटकर कर काम कर रही है जोकि कम्युनिस्ट रूस और पूर्व सोवियत संघ के करीब थी।

एक अन्य मिजो युवा आर. जेड. थंगजुआला(28) ने कहा कि इससे पहले, कांग्रेस और अन्य पार्टियों के नेतृत्व वाली सरकार अमेरिका एवं इजराइल से दूरियां बना रखी थीं लेकिन मोदी भारत-इजराइल संबंधों को मजबूत कर रहे हैं। मोदी की यह छवि ईसाई समुदाय में अच्छी बनी हुई है। मिजो-यहूदियों की एक बड़ी संख्या ‘बेनई मेनाशे (जोसेफ के पुत्र)’ या इजराइल के लुप्त हुई जनजाति के वंशज होने का दावा करती है। वास्तव में, इन लोगों की संख्या कुछ हजारों में है। यहूदी धर्म को मानने वाले मिजो लोग प्रधानमंत्री मोदी के इजराइली समकक्ष नेतन्याहू के साथ दोस्ती के आधार पर भाजपा लिए रेव का समर्थन करता है।

Related News