'मुफ्त की रेवड़ी' को लेकर वरुण गांधी ने अपनी सरकार पर उठाए सवाल, पूछा- 'आखिर सरकारी खजाने पर पहला हक किसका?'

Edited By Anil dev,Updated: 06 Aug, 2022 06:19 PM

national news punjab kesari bjp varun gandhi narendra modi parliament

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सांसद वरुण गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की "मुफ्त की रेवड़ी" वाली टिप्पणी को लेकर सरकार पर निशाना साधते हुए शनिवार को कहा कि पिछले पांच साल में भ्रष्ट कारोबारियों का 10 लाख करोड़ रुपये तक का कर्ज माफ किया गया।

नेशनल डेस्क: भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सांसद वरुण गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की "मुफ्त की रेवड़ी" वाली टिप्पणी को लेकर सरकार पर निशाना साधते हुए शनिवार को कहा कि पिछले पांच साल में भ्रष्ट कारोबारियों का 10 लाख करोड़ रुपये तक का कर्ज माफ किया गया।

वरुण गांधी ने ट्वीट किया, "जो सदन गरीब को पांच किलोग्राम राशन दिए जाने पर ‘धन्यवाद' की आकांक्षा रखता है। वही सदन बताता है कि पांच वर्षों में भ्रष्ट धनपशुओं का 10 लाख करोड़ रुपये तक का कर्ज माफ हुआ है। ‘मुफ्त की रेवड़ी' लेने वालों में मेहुल चोकसी और ऋषि अग्रवाल का नाम शीर्ष पर है। 

सरकारी खजाने पर आखिर पहला हक किसका है? भाजपा नेता ने संसद में सरकार की ओर से शीर्ष 10 भगोड़े कारोबारियों की सूची को टि्वटर पर साझा करते हुए यह सवाल किया। वरुण गांधी संसद में एक चर्चा के दौरान भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के एक अन्य सांसद की उस टिप्पणी का परोक्ष रूप से जिक्र कर रहे थे जिसमें कहा गया था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कोविड​​-19 के दौरान 80 करोड़ गरीब लोगों को मुफ्त खाद्यान्न उपलब्ध करा रहे हैं। प्रधानमंत्री ने हाल में चुनावी लाभ के लिए कुछ राजनीतिक दलों द्वारा मुफ्त की सेवाएं मुहैया कराने की पेशकश के लिए उनकी आलोचना कर एक नयी बहस को जन्म दे दिया है। मोदी ने कहा था कि यह देश के विकास के लिए बेहद नुकसानदेह है। 

Related Story

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!