जानिए कैसे चुनाव प्रचार के दौरान यूपी के CM योगी आदित्यनाथ बने "बाबा बुलडोजर"

Edited By Anil dev, Updated: 09 Mar, 2022 11:44 AM

national news punjab kesari exit poll bjp yogi adityanath

एग्जिट पोल साफ इशारा कर रहे हैं कि योगी आदित्यानाथ के सिर पर ही उत्तर प्रदेश का ताज सजने वाला है। यहां आपको एक दिलचस्प बात बताने जा रहे हैं कि अब उनके नाम के साथ अब योगी के अलावा "बुलडोजर बाबा" शब्द भी जुड़ गया है।

नेशनल डेस्क: एग्जिट पोल साफ इशारा कर रहे हैं कि योगी आदित्यानाथ के सिर पर ही उत्तर प्रदेश का ताज सजने वाला है। यहां आपको एक दिलचस्प बात बताने जा रहे हैं कि अब उनके नाम के साथ अब योगी के अलावा "बुलडोजर बाबा" शब्द भी जुड़ गया है। राज्य से माफिया और गुंडाराज को खत्म करने का श्रेय लेने के लिए उनके बड़े-बड़े पोस्टर और होर्डिंग भी चुनाव प्रचार के दौरान नजर आए, जिन पर बुलडोजर बाबा लिखा था। सबसे रोचक बात यह है कि बड़ी-बड़ी जेसीबी मशीनों पर होर्डिंग फिक्स किए गए थे और उन्हें राज्य भर में देखा गया। इसमें कोई हैरानी की बात नहीं होगी जब 10 मार्च को यूपी के जिला मुख्यालयो में विजय के उद्घोष और नारों में यह भी सुनाई दे कि "बाबा बुलडोजर योगी आदित्यनाथ को जय श्रीराम"। आप यह जानकर हैरत में पड़ जाएंगे कि बाबा बुडलडोजर शब्द को जन्म समाजवादी पार्टी ने ही दिया है और इसका भाजपा ने जमकर फायदा उठाया, जिसका नुकसान भी सपा को ही झेलना पड़ेगा।  

सपा ने मजाक में किया था बाबा बुलडोजर का जिक्र
बताया जाता है कि समाजवादी पार्टी ने सबसे पहले बाबा बुलडोजर का जिक्र मजाक के तौर पर किया था। पिछले महीने अयोध्या में एक रैली को संबोधित करते हुए सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने कहा था कि अब तक हम उन्हें (आदित्यनाथ) 'बाबा मुख्यमंत्री' कह रहे थे। लेकिन आज एक प्रतिष्ठित अंग्रेजी अखबार ने उन्हें 'बाबा बुलडोजर' कहा, यह मैं नहीं हूं जिसने यह नाम दिया है। इसके तुरंत बाद भाजपा ने सुनिश्चित करना शुरू कर दिया कि सीएम की रैलियों में बुलडोजर खड़े किए जाएं।
इसके बाद चुनाव प्रचार अभियान के दौरान मुख्यमंत्री और गृह मंत्री अमित शाह ने तर्क दिया कि पिछले पांच वर्षों में, यूपी में कानून व्यवस्था को नियंत्रण में लाया गया है, खासकर माफिया डॉन का सफाया हुआ है। शाह ने कहा था कि यह उनकी सरकार द्वारा ध्वस्त किए गए इन डॉनों की संपत्ति है कि आदित्यनाथ गर्व से अपनी "बुलडोजर बाबा" साख का हवाला देते हैं। इन पर बाबा का बुलडोजर घोषित करने वाले बैनर थे।

गैगस्टरों की संपति पर फिरे थे बुलडोजर
मार्च 2017 के बीच, जब आदित्यनाथ सरकार सत्ता में आई, और 5 दिसंबर, यूपी पुलिस ने 12,000 से अधिक वांछित अपराधियों को गिरफ्तार करने का दावा किया और लगभग 680 के खिलाफ राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम लागू किया। पुलिस ने यूपी के तहत अपराधियों के खिलाफ 14,982 मामले दर्ज करने का भी दावा किया है। गैंगस्टर और असामाजिक गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम। अधिनियम के तहत, पुलिस ने 1,900 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त करने का दावा किया है, और अवैध रूप से बनाए गए लोगों को ध्वस्त कर दिया है। जिन प्रमुख इमारतों को गिराया गया है उनमें गैंगस्टर से नेता बने मुख्तार अंसारी और अतीक अहमद के अलावा बसपा के पूर्व सांसद दाऊद अहमद की संपत्ति, फरार अपराधी बदन सिंह बदू और गैंगस्टर विकास दुबे का घर शामिल हैं।

बाहूबलि मुख्तार अंसारी के भवन भी नहीं छोड़े
हालांकि, यूपी पुलिस के पास पिछले पांच वर्षों में ध्वस्त किए गए भवनों की कुल संख्या का कोई आधिकारिक रिकॉर्ड नहीं है। गैंगस्टर एक्ट के तहत आवश्यक मंजूरी नहीं मिलने पर प्रशासन और पुलिस की जांच के बाद आरोपी के भवनों को गिराया जा सकता है। उदाहरण के लिए अगस्त 2020 में लखनऊ विकास प्राधिकरण ने लखनऊ के डालीबाग इलाके में विवादास्पद विधायक मुख्तार अंसारी के परिवार के नाम पर पंजीकृत दो भवनों को ध्वस्त कर दिया था। एलडीए के अधिकारियों ने दावा किया कि इमारतों का निर्माण बिना किसी स्वीकृत नक्शे के किया गया था। विध्वंस के बारे में पूछे जाने पर, अतिरिक्त महानिदेशक, कानून और व्यवस्था, प्रशांत कुमार ने कहा कि यूपी गैंगस्टर्स अधिनियम के तहत संपत्तियों को जब्त कर लिया गया है। संपत्तियों के ब्योरे पर उन्होंने कहा कि उन्हें इसे जमा करना होगा।

Related Story

Test Innings
England

India

Match will be start at 01 Jul,2022 04:30 PM

img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!