खिलौना सेक्टर का बड़ा खिलाड़ी बना भारत; निर्यात में 61 प्रतिशत बढ़त, PM मोदी की मुरीद हुई इंडस्ट्री

Edited By Tanuja,Updated: 07 Jul, 2022 01:34 PM

pm modi has infused new energy in toy manufacturing

केंद्र सरकार के ‘मेक इन इंडिया’ अभियान से देश का खिलौना उद्योग अब वैश्विक स्तर पर खूब फलफूल रहा है। पहले की तुलना में देश में बने...

इंटरनेशनल डेस्कः केंद्र सरकार के ‘मेक इन इंडिया’ अभियान से देश का खिलौना उद्योग अब वैश्विक स्तर पर खूब फलफूल रहा है। पहले की तुलना में देश में बने खिलौनों का निर्यात बढ़ा है जिसके लिए खिलौना उद्योग की कंपनियों और उद्योग संघ मोदी सरकार के मुरीद बन गए हैं। विदेशों से खिलौनों का आयात घटने से देश में इस उद्योग को फलने-फूलने का मौका मिला है। अब खिलौनों का आयात घटा है और निर्यात में बड़ी वृद्धि हुई है। पहले बड़े स्तर पर चीन जैसे देशों से खिलौने का आयात होता था।   निर्यात में तेजी से देसी बाजार और देसी कारोबार दोनों को फायदा हुआ है। देश में आए इस बड़े बदलाव और प्रोत्साहन के लिए टॉय एसोसिएशन ऑफ इंडिया ने सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ की है।

 

टॉय एसोसिएशन ऑफ इंडिया के जनरल सेक्रेटरी शरद कपूर ने सरकार की तारीफ करते हुए कहा, पीएम मोदी ने देश में खिलौना उद्योग को बढ़ाने में अहम भूमिका निभाई है। उन्होंने मैन्युफैक्चरिंग इंडस्ट्री को प्रोत्साहित कर घरेलू उत्पादन को बढ़ावा दिया है। पहले चीन के 90 परसेंट तक खिलौने देश में खपते थे लेकिन अब अधिकांश खिलौने देश में बनते हैं।  बड़ी उपलब्धि ये है कि अब विदेशों से भी खिलौने का ऑर्डर मिलता है।’ दिल्ली के खिलौना निर्माता राजीव बत्रा ने  ने कहा कि देश में ही खिलौना बनाने के लिए केंद्र सरकार प्रोत्साहन दे रही है। 80 फीसद से अधिक खिलौने देश में ही बन रहे हैं । सरकार कई तरह के इंसेंटिव दे रही है जिससे खिलौना उद्योग को बढ़ने का मौका मिल रहा है।

 

आंकड़ों पर नजर डालें तो पिछले तीन वर्षों में खिलौना आयात में 70 प्रतिशत की कमी दर्ज की गई है। एचएस कोड 9503, 9504 और 9503 के लिए भारत में खिलौनों का आयात वित्त वर्ष 2018-19 के 371 मिलियन डॉलर की तुलना में वित्त वर्ष 2021-22 के दौरान 110 मिलियन डॉलर रहा जो 70.35 प्रतिशत की कमी दिखाता है। एचएस कोड 9503 के लिए, खिलौना आयात में और तेजी से कमी आई है जो वित्त वर्ष 2018-19 के 304 मिलियन डॉलर की तुलना में वित्त वर्ष 2021-22 के दौरान घट कर 36 मिलियन डॉलर पर आ गया।

 

इसके अतिरिक्त, इसी अवधि के दौरान निर्यात में 61.38 प्रतिशत का उछाल देखा गया है। एचएस कोड 9503, 9504 और 9503 के लिए खिलौना निर्यात वित्त वर्ष 2018-19 के 202 मिलियन डॉलर की तुलना में वित्त वर्ष 2021-22 के दौरान 326 मिलियन डॉलर रहा जो 61.39 प्रतिशत की बढ़ोतरी दिखाता है। एचएस कोड 9503 के लिए, खिलौना निर्यात बढ़कर वित्त वर्ष 2018-19 के 109 मिलियन डॉलर की तुलना में वित्त वर्ष 2021-22 के दौरान बढ़ कर 177 मिलियन डॉलर पर पहुंच गया। 

Related Story

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!