रेवड़ी कल्चर पर सुप्रीम कोर्ट की EC को फटकार-अखबारों में छप गया हलफनामा, हमें अभी तक मिला नहीं

Edited By Seema Sharma,Updated: 11 Aug, 2022 01:00 PM

supreme court reprimands ec on rewari culture

चुनाव में फ्री सुविधाओं का वायदा करने वाली राजनीतिक पार्टियों की मान्यता रद्द करने की मांग वाली याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में करीब 20 मिनट सुनवाई के बाद इसे अगली तारीख तक टाल दिया गया।

नेशनल डेस्क: चुनाव में फ्री सुविधाओं का वायदा करने वाली राजनीतिक पार्टियों की मान्यता रद्द करने की मांग वाली याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में करीब 20 मिनट सुनवाई के बाद इसे अगली तारीख तक टाल दिया गया। इस मामले पर सुप्रीम कोर्ट इस मामले पर अगली सुनवाई 17 अगस्त को करेगा। वहीं सुनवाई के दौरान शीर्ष अदालत ने निर्वाचन आयोग से पूछा कि सभी राजनीतिक पार्टी चुनाव से पहले अपना मेनिफेस्टो आपको देती हैं? इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग को फटकार भी लगाई।

 

कोर्ट ने कहा कि हमें हलफनामा नहीं मिलता, लेकिन वह अखबारों को मिल जाता है और वहां छप भी जाता है, हमने आज हलफनामा न्यूज पेपर में पढ़ भी लिया है। राजनीतिक पार्टियों द्वारा मुफ्त योजनाओं के ऐलान के खिलाफ भाजपा नेता अश्विनी उपाध्याय ने सुप्रीम कोर्ट में जो याचिका दायर की है, उसमें कहा गया है कि इससे देश की अर्थव्यवस्था को नुकसान होता है।  जब कोर्ट ने चुनाव आयोग से बारे में सवाल किया तो EC ने बताया कि फ्री योजनाओं को लेकर कोई स्पष्ट परिभाषा नहीं है।

 

इसके साथ ही EC ने कोर्ट से कहा कि इसको लेकर एक कमेटी बना दी जाए, लेकिन हमें उस कमेटी से दूर रखा जाए क्योंकि हम एक संवैधानिक संस्था हैं। बता दें कि चुनाव में फ्री योजनाओं को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने फ्री रेवड़ी कल्चर कहा था। वहीं इसको लेकर आम आदमी पार्टी भी प्रधानमंत्री पर हमलावर है। आम आदमी पार्टी की ओर से सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा भी दायर किया गया है। चुनावों से पहले कई पार्टियां जनता से कई बड़े-बड़े वादे करती हैं।

Related Story

Trending Topics

India

92/4

7.2

Australia

90/5

8.0

India win by 6 wickets

RR 12.78
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!