'जो बोले सो निहाल' के जयकारों के साथ खुले श्री हेमकुंड साहिब के कपाट, 5000 श्रद्धालुओं ने टेका मत्था

Edited By Seema Sharma, Updated: 22 May, 2022 03:26 PM

the doors of shri hemkund sahib open

श्री हेमकुंड साहिब गुरुद्वारे के कपाट रविवार सुबह खोल दिए गए। जो बोले सो निहाल... के जयकारों के साथ श्री हेमकुंड साहिब के कपाट सुबह 10 बजे पूरे विधि-विधान से खोले गए।

नेशनल डेस्क: श्री हेमकुंड साहिब गुरुद्वारे के कपाट रविवार सुबह खोल दिए गए। जो बोले सो निहाल... के जयकारों के साथ श्री हेमकुंड साहिब के कपाट सुबह 10 बजे पूरे विधि-विधान से खोले गए। पंच प्यारों की अगुवाई में पांच हजार श्रद्धालु इस क्षण के साक्षी बने। करीब नौ बजे पंच प्यारों के अगुवाई में गुरुग्रंथ साहिब को दरबार साहिब में लाया गया।

 

गुरुद्वारे के कपाट खुलने के साथ ही पहले दिन  हजार श्रद्धालुओं ने हेमकुंड साहिब में मत्था टेका और पवित्र सरोवर में स्नान किया। पंच प्यारों की अगुवाई में गोविंदघाट गुरुद्वारे से पांच हजार तीर्थयात्रियों का पहला जत्था शनिवार दोपहर घांघरिया पहुंचा था।

 

गुरुद्वारा श्री हेमकुंड साहिब मैनेजमेंट ट्रस्ट के साथ ही जिला प्रशासन की ओर से हेमकुंड साहिब, घांघरिया व अन्य यात्रा पड़ावों में सभी यात्रा तैयारियों को अंतिम रूप दिया गया। हेमकुंड साहिब के कपाट खुलने की प्रक्रिया सुबह साढ़े नौ बजे से शुरू हुई। गुरुग्रंथ साहिब को सचखंड से लाकर दरबार साहिब में रखा गया। इसके बाद सुबह 10 बजे सुखमणि साहिब का पाठ हुआ। इसके बाद हेमकुंड साहिब के कपाट श्रद्धालुओं के लिए खोले गए।

 

शबद कीर्तन के बाद दोपहर में 12:30 बजे हेमकुंड साहिब में इस साल की पहली अरदास हुई। कोरोना के दो साल बाद हेमकुंड साहिब की तीर्थयात्रा हो रही है। वहीं प्रशासन ने एक दिन में पांच हजार तीर्थयात्रियों को ही हेमकुंड साहिब जाने की अनुमति दी ताकि किसी को किसी तरह की असुविधा नहीं हुई।

Related Story

India

179/5

20.0

South Africa

131/10

19.1

India win by 48 runs

RR 8.95
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!