दशहरे की छुट्टी से एक दिन पहले रात 9 बजे तक सुनवाई करते रहे जज, पांच घंटे ज्यादा हुआ काम

Edited By Yaspal,Updated: 30 Sep, 2022 10:32 PM

the judge kept hearing till 9 pm a day before the dussehra holiday

सुप्रीम कोर्ट की जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ और हेमा कोहली की बेंच ने दशहरा की छुट्टी पर जाने से एक दिन पहले शुक्रवार रात 9:10 बजे तक कोर्ट में सुनवाई की। पीठ के समक्ष लगभग 75 मामले सूचीबद्ध किए गए थे। आम तौर पर अदालत की कार्यवाही शाम 4 बजे बंद हो जाती है

नेशनल डेस्कः सुप्रीम कोर्ट की जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ और हेमा कोहली की बेंच ने दशहरा की छुट्टी पर जाने से एक दिन पहले शुक्रवार रात 9:10 बजे तक कोर्ट में सुनवाई की। पीठ के समक्ष लगभग 75 मामले सूचीबद्ध किए गए थे। आम तौर पर अदालत की कार्यवाही शाम 4 बजे बंद हो जाती है।

ईवीएम के खिलाफ याचिका की खारिज
शीर्ष अदालत ने शुक्रवार को कहा कि अदालत ऐसी जगह नहीं जहां हर कोई ‘कुछ प्रचार' पाने के लिए आन पहुंचे। शीर्ष अदालत ने इसके साथ ही एक राजनीतिक दल की वह याचिका खारिज कर दी, जिसमें दावा किया गया था कि इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) पर चुनाव आयोग का नहीं, बल्कि कुछ कंपनियों का नियंत्रण होता है। शीर्ष अदालत ने 50,000 रुपये के जुर्माने के साथ याचिका खारिज करते हुए कहा कि जनप्रतिनिधित्व अधिनियम, 1951 के तहत चुनाव प्रक्रिया की निगरानी चुनाव आयोग (ईसी) जैसे संवैधानिक प्राधिकरण द्वारा की जाती है।

नई संसद भवन के ऊपर राष्ट्रीय चिन्ह को लेकर दायर याचिका की खारिज
सर्वोच्च अदालत ने उस याचिका को खारिज कर दिया जिसमें आरोप लगाया गया था कि नए संसद भवन के ऊपर राष्ट्रीय प्रतीक का डिज़ाइन भारत के राज्य प्रतीक (अनुचित प्रयोग का निषेध) अधिनियम, 2005 का उल्लंघन करता है। न्यायालय इस दलील से भी सहमत नहीं था कि वहां के शेर अधिक आक्रामक प्रतीत होते हैं। इसके साथ ही न्यायालय ने कहा कि धारणा किसी व्यक्ति के दिमाग पर निर्भर करती है। यह याचिका न्यायमूर्ति एम. आर. शाह और न्यायमूर्ति कृष्ण मुरारी की पीठ के समक्ष सुनवाई के लिए आई। पीठ के मुताबिक, यह नहीं कहा जा सकता है कि वहां स्थापित राष्ट्रीय प्रतीक से 2005 के अधिनियम का उल्लंघन होता है।

Related Story

Pakistan

137/8

20.0

England

138/5

19.0

England win by 5 wickets

RR 6.85
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!