'यह अब फैशन बन गया है..', जजों को निशाना बनाने के बढ़ते ट्रेंड पर सुप्रीम कोर्ट ने जताई चिंता

Edited By Yaspal, Updated: 23 May, 2022 06:54 PM

the sc expressed concern over the increasing trend of targeting judges

सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को कहा कि न्यायाधीशों के खिलाफ आरोप लगाना दुर्भाग्य से अब एक नया ‘‘फैशन'''' बन गया है और कोई न्यायाधीश जितने अधिक मजबूत होते हैं, उनके खिलाफ आरोप उतना ही बड़ा होता है। शीर्ष अदालत ने मद्रास हाईकोर्ट द्वारा अवमानना का दोषी...

नई दिल्लीः सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को कहा कि न्यायाधीशों के खिलाफ आरोप लगाना दुर्भाग्य से अब एक नया ‘‘फैशन'' बन गया है और कोई न्यायाधीश जितने अधिक मजबूत होते हैं, उनके खिलाफ आरोप उतना ही बड़ा होता है। शीर्ष अदालत ने मद्रास हाईकोर्ट द्वारा अवमानना का दोषी पाये गए एक वकील की ओर से दायर अपील की सुनवाई करते हुए पाया कि उत्तर प्रदेश में न्यायाधीशों के खिलाफ धड़ल्ले से आरोप लगाये जाते हैं और अब यह बंबई और मद्रास में भी हो रहा है। मद्रास हाईकोर्ट ने वकील को दो हफ्ते की साधारण कैद की सजा सुनाई थी।

शीर्ष अदालत ने कहा कि वादी का कृत्य ‘‘पूरी तरह से अवमाननापूर्ण है'' और उसके खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी करने वाले हाईकोर्ट के एक न्यायाधीश के खिलाफ लगाये गये अकारण आरोप के अलावा, उसके बाद कार्यवाही की सुनवाई कर रहे न्यायाधीशों में से एक को मामले की सुनवाई से अलग करने की मांग पूरी तरह से बेबुनियाद थी।

न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़ और न्यायमूर्ति बेला एम त्रिवेदी की अवकाश पीठ ने कहा, ‘‘अब न्यायाधीशों के खिलाफ आरोप लगाना दुर्भाग्य से एक नया ‘फैशन' बन गया है। न्यायाधीश जितने अधिक मजबूत होते हैं, उनके खिलाफ आरोप उतना ही बड़ा होता है। यह अब बंबई में हो रहा है। बेशक, यह उत्तर प्रदेश में धड़ल्ले से हो रहा है, अब मद्रास में भी होने लगा है। '' पीठ ने कहा, ‘‘एक मजबूत संदेश देना होगा। '' शीर्ष अदालत ने कहा कि न्यायाधीशों पर देश भर में हमले हो रहे हैं और जिला न्यायपालिका में उनकी सुरक्षा के लिए कभी-कभी एक लाठीधारी पुलिसकर्मी तक नहीं होता।''

पीठ ने हाईकोर्ट के इस साल मार्च के आदेश में हस्तक्षेप करने से इनकार कर दिया, जिसमें यह निर्देश भी दिया गया था कि वकील अदालत में एक साल तक प्रैक्टिस नहीं करेगा। पीठ ने कहा कि वकील के खिलाफ न्यायाधीश के गैर जमानती वारंट जारी होने के बाद पुलिस उसे तामील करने गई, तब वह (वकील) हाईकोर्ट के पास चाय की एक दुकान पर था। शीर्ष अदालत ने कहा कि वहां सैकड़ों वकीलों ने पुलिस को घेर लिया और वारंट तामील नहीं करने दिया।

पीठ ने कहा कि जब अदालत ने विषय की सुनवाई की तब वकील ने अपने खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी करने वाले न्यायाधीश के खिलाफ आरोप लगाये। वकील की ओर से पेश हुए अधिवक्ता ने कहा कि वकील ने बेशर्त माफी मांग ली है। पीठ ने कहा कि वादी वकीलों के एक ऐसे वर्ग से है जिन्हें नियंत्रित करना मुश्किल है और जो कानून के नाम पर एक धब्बा है।

पीठ ने कहा कि इस तरह के लोगों से निपटने के लिए यही एकमात्र तरीका है और दो हफ्ते की कैद असल में बहुत हल्की सजा है। जब अधिवक्ता ने पीठ से कुछ पंक्तियों को रिकार्ड में नहीं डालने का अनुरोध किया तब शीर्ष अदालत ने कहा कि वह एक फौजदारी अपील का निस्तारण कर रहा है। पीठ ने कहा, ‘‘वकील भी कानून की प्रक्रिया का हिस्सा हैं। हम सभी देश के नागरिक हैं। ''

Related Story

Test Innings
England

India

134/5

India are 134 for 5

RR 3.72
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!