मां को स्कूटर से 56 हजार Km का तीर्थ करवा चुका है यह बेटा, नेपाल-भूटान और म्यांमार के मंदिरों में भी करवाए दर्शन

Edited By Seema Sharma,Updated: 06 Jul, 2022 10:50 AM

this son has made mother a pilgrimage of 56 thousand km by scooter

मैसूर के दक्षिणामूर्ति कृष्ण कुमार को अगर आज का श्रवण कुमार कहा जाए तो गलत न होगा। दरअसल देशभर के प्रमुख मंदिरों की यात्रा करने की अपनी मां की इच्छा को पूरा करने के लिए कार्पोरेट कार्यकारी दक्षिणामूर्ति कृष्ण कुमार ने अपने करियर को ठोकर मार दी।

नेशनल डेस्क: मैसूर के दक्षिणामूर्ति कृष्ण कुमार को अगर आज का श्रवण कुमार कहा जाए तो गलत न होगा। दरअसल देशभर के प्रमुख मंदिरों की यात्रा करने की अपनी मां की इच्छा को पूरा करने के लिए कार्पोरेट कार्यकारी दक्षिणामूर्ति कृष्ण कुमार ने अपने करियर को ठोकर मार दी। कृष्ण कुमार ने यह कदम उस समय उठाया जब उनकी मां चुदरत्नम्मा ने उनसे कहा कि वह कर्नाटक के प्रसिद्ध हलेबिडु मंदिर में भी नहीं गई बावजूद इसके कि मंदिर उनके घर से बहुत दूर नहीं है।

PunjabKesari

कृष्ण कुमार ने कहा कि मां के चेहरे पर असंतोष साफ झलक रहा था। इसने मुझे अपने जीवन के उद्देश्य के बारे में सोचने पर मजबूर कर दिया। बहुत सोचने के बाद मैंने फैसला किया कि मैं अपनी मां को देश के सभी प्रमुख मंदिरों में ले जाना चाहता हूं, वह भी अपने पिता के स्कूटर पर।’’ कृष्ण ने कहा, ‘‘एक सभ्य जीवन जीने के लिए पर्याप्त पैसा कमाने के बाद, मैंने संक्रांति त्यौहार से एक दिन पहले 14 जनवरी, 2018 को अपनी नौकरी छोड़ दी और मां के साथ 16 जनवरी को अपनी तीर्थयात्रा शुरू की।’’

PunjabKesari

अब तक, मां-बेटे की जोड़ी ने न केवल भारत में बल्कि नेपाल, भूटान और म्यांमार जैसे पड़ोसी देशों में मंदिरों में जाकर 56,522 किलोमीटर की दूरी तय की है। कृष्ण कुमार ने कहा कि कोरोना ने हमारी तीर्थयात्रा में बाधा डाल दी, जिससे हमें अपनी यात्रा से ब्रेक लेने के लिए मजबूर होना पड़ा। मां-बेटे की जोड़ी के परिवहन का साधन 2000-मॉडल बजाज चेतक है, जो कृष्ण कुमार को उनके पिता ने उपहार में दिया था।

Related Story

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!