कल बुंदेलखंड की धरती पर पीएम मोदी, भाजपा के सामने है बड़ी चुनौती

Edited By Yaspal,Updated: 18 Nov, 2021 06:31 PM

tomorrow pm modi on the soil of bundelkhand a big challenge in front of bjp

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की शुक्रवार को झांसी एवं महोबा की यात्रा का बुन्देलखंड में ना केवल अगले वर्ष के विधानसभा चुनाव बल्कि आने वाले समय में अनेक चुनावों पर भी गहरा प्रभाव पड़ेगा। मोदी की इस यात्रा का राजनीतिक अभिप्राय बुन्देलखंड की सभी 19...

नेशनल डेस्कः प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की शुक्रवार को झांसी एवं महोबा की यात्रा का बुन्देलखंड में ना केवल अगले वर्ष के विधानसभा चुनाव बल्कि आने वाले समय में अनेक चुनावों पर भी गहरा प्रभाव पड़ेगा। मोदी की इस यात्रा का राजनीतिक अभिप्राय बुन्देलखंड की सभी 19 विधानसभा सीटों पर भाजपा का वर्चस्व बरकरार रखना है। उत्तर प्रदेश के दक्षिण में दो मंडलों एवं सात जिलों में फैले बुन्देलखंड में कुल चार लोकसभा और 19 विधानसभा सीटें हैं।

झांसी मंडल के जालौन जिले में तीन, झांसी जिले में चार और ललितपुर में दो विधानसभा क्षेत्र तथा बांदा चित्रकूट मंडल में हमीरपुर जिले में दो, महोबा जिले में दो, बांदा में चार और चित्रकूट में दो विधानसभा क्षेत्र हैं। बरसों से उपेक्षित एवं पिछड़े रहे इस इलाके में पानी, बिजली एवं सड़क, शिक्षा एवं स्वास्थ्य राज्य में बाकी क्षेत्रों की तुलना में खराब ही रहती आयी है। खेतों में पानी और उद्योग धन्धे नहीं होने से रोजगार का संकट है। बीते डेढ़-दो दशकों से बुन्देलखंड के लोग गांवों को सूना छोड़कर मजदूरी के लिए दिल्ली, राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र, पंजाब आदि क्षेत्रों में जाने लगे हैं।

राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि प्रधानमंत्री श्री मोदी के शुक्रवार के कार्यक्रम का बुन्देलखंड के राजनीतिक परिद्दश्य पर केवल वर्ष 2022 के विधानसभा चुनावों पर ही नहीं, बल्कि आने वाले अनेक चुनावों पर प्रभाव रहेगा। प्रेक्षकों का मानना है कि बुन्देलखंड में वर्ष 2017 के विधानसभा चुनावों में सभी 19 सीटों पर विजय प्राप्त करने के बावजूद यह क्षेत्र कभी भी भाजपा का गढ़ नहीं रहा है। वर्ष 2012 में यहां सर्वाधिक बहुजन समाज पाटर्ी को सात, समाजवादी पार्टी को पांच, कांग्रेस को चार और भाजपा को सबसे कम तीन सीटें मिलीं थीं। इससे पहले 2007 में यहां बसपा और 2002 में सपा का बोलबाला रहा।

विश्लेषकों का कहना है कि 2017 में भाजपा की सरकार बनने के बाद ज़मीनी स्तर पर काम ने भाजपा की स्थिति को मजबूत किया है। कानून व्यवस्था में सुधार यहां प्रमुख मुद्दा है और इसके साथ गांवों में बिजली की स्थिति सुधरने एवं 20 से 22 घंटे तक आपूर्ति, ट्रांसफार्मरों की उपलब्धता, डिजीटल माध्यम से प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण से लोगों पर भाजपा का सकारात्मक असर पड़ा है। बुन्देलखंड में केन्द्र सरकार की हर घर नल जल योजना को लेकर भी काफी उत्सुकता है। पानी की किल्लत झेलने वाले इस इलाके में नल से हर घर में पानी पहुंचना किसी आसमानी सौगात से कम नहीं होगा।

इसके साथ ही रक्षा मंत्रालय द्वारा आयोजित राष्ट्र रक्षा समर्पण पर्व भी बुधवार को शुरू हो गया जिसमें प्रधानमंत्री मोदी कल रक्षा औद्योगिक गलियारे के झांसी खंड का शिलान्यास करेंगे। इसके अंतर्गत 400 करोड़ रुपए की लागत से टैंक रोधी निर्देशित मिसाइलों के लिए प्रणोदन प्रणाली का उत्पादन करने के लिए एक संयंत्र स्थापित किया जाना है।

इस अवसर पर तीनों सेनाओं के प्रमुख मौजूद रहेंगे। मोदी उन्हें स्वदेशी रूप से डिजाइन और विकसित किए गए उपकरणों को सौंपेंगे। इनमें हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) द्वारा डिजाइन और विकसित लाइट कॉम्बैट हेलीकॉप्टर (एलसीएच), भारतीय स्टाटर्अप द्वारा डिजाइन और विकसित किए गए ड्रोन/यूएवी और डीआरडीओ द्वारा डिजाइन एवं भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड (बीईएल) द्वारा नौसेना के जहाजों के लिए निर्मित उन्नत इलेक्ट्रॉनिक वारफेयर सूट शामिल हैं।

Related Story

Trending Topics

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!