'हल्क' बनने की चाहत में यह शख्स रोज लेता था खतरनाक इंजेकशन, जन्मदिन पर हुई मौत

Edited By Anil dev,Updated: 03 Aug, 2022 02:27 PM

wanting to become  hulk  take dangerous injections every day

आज के समय जिम में बॉडी बनाना एक फैशन बन चुका है , वहीं, कुछ लोग ऐसे भी है जो जल्दी खुद को फिट देखने के लिए कई तरह की चीजों का इस्तेमाल भी करते हैं,जैसे की स्टेरॉयड और इंजेक्शन आदि ।

नेशनल डेस्क : आज के समय जिम में बॉडी बनाना एक फैशन बन चुका है , वहीं, कुछ लोग ऐसे भी है जो जल्दी खुद को फिट देखने के लिए कई तरह की चीजों का इस्तेमाल भी करते हैं,जैसे की स्टेरॉयड और इंजेक्शन आदि । ऐसा ही एक मामला ब्राजील से सामने आया है जहां एक मशहूर बॉडीबिल्डर और टिकटॉक स्टार वाल्दिर सेगातो की मौत हो गई।

वाल्दिर सेगातो 'हल्क' के नाम से पहचाने जाने वाले इस ब्राजीलियन शख्स ने 23 इंच के बाइसेप्स बनाने के लिए खुद को एक खतरनाक ऑयल का इंजेक्शन लगाया जिसके कारण रिबेराओ प्रेटो में 55 वें जन्मदिन के मौके पर उनकी मौत हो गई । स्ट्रोक और इंफेक्शन का खतरा होने के बावजूद बाइसेप्स और बैक मसल्स को बढ़ाने के लिए वाल्दिर सेगातो काफी लंबे समय से सिंथॉल इंजेक्शन का इस्तेमाल कर रहा था । वाल्दिर ने साल 2016 में बताया था कि लोग मुझे हर समय श्वार्ज़नेगर, हल्क और ही-मैन के नाम से बुलाते हैं और मुझे ये सब सुनना काफी अच्छा लगता है । मैनें अपने बाइसेप्स को डबल कर लिया है लेकिन मैं अभी भी और बड़े बाइसेप्स चाहता हूं ।

6 साल पहले  वाल्दिर को डॉक्टर्स ने चेतावनी दी थी कि अगर वह इस तरह की बॉडी बनाने के लिए इंजेक्शन का इस्तेमाल करता रहा तो उसे नर्वस डैमेज समेत कई जानलेवा दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है लेकिन इसके बावजूद भी  वाल्दिर मसल्स बढ़ाने के लिए लगातार इंजेक्शन का इस्तेमाल करता रहा । लगातार इंजेक्शन लगाने के बाद वाल्दिर के मसल्स 23 इंच के हो गए जिस कारण लोग उसे 'द मॉन्सटर' के नाम से पुकारने लगे जिसके लिए उसे काफी गर्व महसूस होता था ।

वाल्दिर सोशल मीडिया पर अपने बॉडी ट्रांसफोर्मेशन की कई फोटोज और वीडियोज शेयर करता रहता था साथ वह खुद को 'वाल्दिर सिंथॉल' के नाम से पुकारता था । वाल्दिर के टिकटॉक पर 1.7 मीलियन फॉलोअर्स, वाल्दिर के पड़ोसियों ने लोकल मीडिया को बताया कि उसके बहुत कम दोस्त और रिश्तेदार थे । मौके पर मौजूद एक स्थानीय व्यक्ति ने बताया कि जिस दिन उनकी मौत हुई उसे सांस में कापी दिक्कत हो रही थी । उस दिन सुबह के 6 बजे वह पीछे के घर से रेंगता हुआ आगे आया, उसने  खिड़की को खटखटाया., खटखटाहट की आवाज खुनकर मेरी मां उठी तो वह मदद मांगते हुए बोला  'मेरी मदद करो क्योंकि मैं मर रहा हूं।' इसके बाद तुरंत ही वाल्दिर को हॉस्पिटल ले जाया गया जहां हार्ट अटैक आने के कारण वह रिसेप्शन एरिया में ही गिर गया ।

Related Story

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!