SBI के अर्थशास्त्रियों ने कहा, मौत के आंकड़ों में कमी कोई अनोखी बात नहीं

Edited By jyoti choudhary, Updated: 30 Jun, 2021 06:10 PM

sbi economists said the reduction in the death toll is not a unique thing

कोविड19 से हुई मौतों की सरकारी सूचनाओं पर जारी बहस के बीच भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) के अर्थशास्त्रियों ने अपनी एक एक ताजा शोधपरक रिपोर्ट में बुधवार को कहा कि भारत में मौतों के आंकड़ों में कमी कोई नई बात नहीं है। उन्होंने कहा कि कम रिपोर्टिं

मुंबईः कोविड19 से हुई मौतों की सरकारी सूचनाओं पर जारी बहस के बीच भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) के अर्थशास्त्रियों ने अपनी एक एक ताजा शोधपरक रिपोर्ट में बुधवार को कहा कि भारत में मौतों के आंकड़ों में कमी कोई नई बात नहीं है। उन्होंने कहा कि कम रिपोर्टिंग के प्रमुख कारणों में एक यह है कि कई मौतें बिना किसी चिकित्सकीय निगरानी के होती हैं और इस हालात में बदलाव के लिए स्वास्थ्य सवाओं के बुनियादी ढांचे में सुधार जरूरी है। 

यह भी पढ़ें- विदेश यात्रा का इंतजार और बढ़ा, 31 जुलाई तक जारी रहेगा इंटरनेशनल उड़ानों पर प्रतिबंध

एसबीआई की यह रिपोर्ट ऐसे वक्त में आई है, जब देश में कोविड-19 महामारी से हुई मौत के आंकड़ों को कम करके बताने को लेकर बहस चल रही है। खासतौर से गंगा नदी में शवों को देखे जाने के बाद इस आशंका को बल मिला है। कुछ अनुमानों के मुताबिक वास्तविक आंकड़ा बताए गए आंकड़े के मुकाबले 10 गुना अधिक हो सकता है। एसबीआई के अर्थशास्त्रियों ने रिपोर्ट मे कहा, ‘‘यह भी काफी हद तक संभव है कि कोई जांच ही न हुई हो और भारत में बीमारी तथा मौत के सरकारी आंकड़ों में कमी होना कोई नई घटना नहीं है। यह नागरिक पंजीकरण के जरिए भारत में कोविड से हुई मौतों के बारे में पता लगाने को लेकर जारी हालिया बहस के संदर्भ में महत्वपूर्ण है।'' 

यह भी पढ़ें- आम आदमी को महंगाई का एक और झटका, अमूल दूध हुआ महंगा

रिपोर्ट के मुताबिक सिर्फ बेहतर चिकित्सा व्यवस्था से भारत में बीमारी की उचित जानकारी रखी जा सकती है और जीवन की रक्षा हो सकती है। इसके लिए सार्वजनिक स्वास्थ्य के बुनियादी ढांचे को बेहतर बनाना और स्वास्थ्य पेशेवरों की संख्या में बढ़ोतरी जरूरी है। रिपोर्ट में कहा गया कि ‘‘ऐसा साफतौर पर लगता है'' कि भारत जैसे निम्न आय वाले देशों में कोविड-19 की तबाही (जितनी बताई गई है उससे) ‘‘अधिक भयावह होनी चाहिए।'' जन्म और मृत्यु पंजीकरण के बारे में रिपोर्ट में कहा गया कि सरकार ने 1969 में एक कानून के जरिए दोनों का पंजीकरण अनिवार्य कर दिया था लेकिन बिहार, उत्तर प्रदेश और झारखंड जैसे राज्यों में मृत्यु पंजीकरण आज भी 75 प्रतिशत से नीचे है।

यह भी पढ़ें- वित्त मंत्रालय: चार सालों में घटी GST दर, बढ़े करदाता और दाखिल हुए 66 करोड़ से अधिक रिटर्न

रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि 2019 में देश में कुल जन्म में एक तिहाई केवल उत्तर प्रदेश और बिहार में पंजीकृत किए गए थे जबक एक तिहाई मौतें उत्तर प्रदेश, हमाराष्ट्र और तमिलनाडु में पंजीकृत थी। रिपोर्ट में कहा गया है कि जन्म और मृत्यु में इस तरह की असंगति आने वाले वर्षों में इन राज्यों के जननांकीय स्वरूप के लिए ठीक नहीं है। 

Related Story

Trending Topics

Indian Premier League
Gujarat Titans

Rajasthan Royals

73/1

8.0

Rajasthan Royals are 73 for 1 with 12.0 overs left

RR 9.13
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!