Rani ki vav- विश्व प्रसिद्ध है ये बावड़ी, जानें इतिहास और रोचक बातें

Edited By Niyati Bhandari,Updated: 27 Feb, 2024 11:06 AM

rani ki vav

गुजरात के पाटण जिले में स्थित ‘रानी की वाव’ जल संरक्षण की प्राचीन परम्परा का अनूठा उदाहरण है। इस बावड़ी का निर्माण वर्ष 1063 में सोलंकी शासन के राजा भीमदेव प्रथम की स्मृति में उनकी पत्नी

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ

Where is Rani ki vav located- गुजरात के पाटण जिले में स्थित ‘रानी की वाव’ जल संरक्षण की प्राचीन परम्परा का अनूठा उदाहरण है। इस बावड़ी का निर्माण वर्ष 1063 में सोलंकी शासन के राजा भीमदेव  प्रथम की स्मृति में उनकी पत्नी रानी उदयामति द्वारा करवाया गया था। सरस्वती नदी के तट पर बनी 7 तलों की यह वाव 64 मीटर लम्बी, 20 मीटर चौड़ी तथा 27 मीटर गहरी है। इस वाव में 30 किलोमीटर लम्बी रहस्यमयी सुरंग भी है जो पाटण के सिद्धपुर में जाकर निकलती है।

PunjabKesari Rani ki vav

Why is Rani ka Vav important- ‘रानी की वाव’ को उत्तम वास्तुकला का जीवंत एवं बेजोड़ नमूना माना जाता है। यहां की मूर्तिकला तथा नक्काशी में राम, वामन, कल्कि जैसे विष्णु के अवतार, महिषा सुरमर्दिनी आदि को भव्य रूप में उकेरा गया है।

PunjabKesari Rani ki vav

22 जून, 2014 को यूनेस्को के विश्व विरासत स्थल में इस वाव को शामिल किया गया और जुलाई 2018 में भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा 100 के नोट पर इसे चित्रित किया गया है।

PunjabKesari Rani ki vav

Why is Rani ka Vav important- यूनेस्को ने इसे तकनीकी विकास का एक आलौकिक उदाहरण मानते हुए मान्यता प्रदान की है। इसमें जल प्रबंधन की बेहतर व्यवस्था के साथ ही शिल्प कला का सौंदर्य भी झलकता है। ‘रानी की वाव’ समस्त विश्व में ऐसी इकलौती बावड़ी है जो विश्व धरोहर सूची में शामिल हुई है। यह इस बात का सबूत भी है कि प्राचीन भारत में जल प्रबंधन की व्यवस्था कितनी बेहतरीन थी।

PunjabKesari Rani ki vav

यह वाव 11वीं शताब्दी की भारतीय भूमिगत वास्तु संरचना और जल प्रबंधन में भूजल संसाधनों के उपयोग की तकनीक का सबसे विकसित और वृहद उदाहरण हैं।

PunjabKesari Rani ki vav

Rani Ki Vav Historical Facts- भारत में बावड़ी निर्माण व इनके उपयोग का एक लम्बा इतिहास रहा है। यह कहा जा रहा है कि ये बावड़िया हमारे देश की बहुमूल्य और अभिन्न विरासत का प्रतीक हैं। जल प्रबंधन के सबसे पुराने तरीकों में से एक हैं ये बावड़िया, इन्हें संजोए रखना हम सबकी जिम्मेदारी है।

PunjabKesari Rani ki vav

इन ऐतिहसिक धरोहरों को संरक्षित करने के लिए भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण द्वारा महत्वपूर्ण प्रयास किए जा रहे हैं। इन्हें संरक्षित रखने हेतु जन भागीदारी आवश्यक है।

(‘जल चर्चा’ से साभार’)

PunjabKesari Rani ki vav

Related Story

IPL
Chennai Super Kings

176/4

18.4

Royal Challengers Bangalore

173/6

20.0

Chennai Super Kings win by 6 wickets

RR 9.57
img title
img title

Be on the top of everything happening around the world.

Try Premium Service.

Subscribe Now!