GST: अगले हफ्ते से सस्ते मिलने लगेंगे शैंपू, चॉकलेट, डिटर्जेंट

  • GST: अगले हफ्ते से सस्ते मिलने लगेंगे शैंपू, चॉकलेट, डिटर्जेंट
You Are HereBusiness
Monday, November 13, 2017-1:06 PM

नई दिल्लीः अगले हफ्ते से आपको शैंपू, चॉकलेट, डिटर्जेंट आदि के लिए कम दाम चुकाना होगा। जी हां, डाबर-अमूल जैसी बड़ी कंपनियों के अनुसार अगले सप्ताह से शैंपू, चॉकलेट, न्यूट्रिशन ड्रिंक्स और कंडेंस्ड मिल्क के दाम 5-15 फीसदी तक कम हो जाएंगे। डाबर के चीफ एग्जिक्युटिव सुनील दुग्गल ने कहा, 'अपने शैंपू रेंज के दाम हम कम से कम 5 फसीदी घटाएंगे। हम एंट्री-लेवल पैक्स ज्यादा उतारेंगे और डिस्ट्रिब्यूशन बढ़ाकर कीमत को लेकर संवेदनशील रहने वाले कस्टमर्स के बीच कंजंप्शन को हवा देने की कोशिश करेंगे।'

देश की सबसे बड़ी डेयरी फर्म अमूल ने कहा कि वह कंडेंस्ड मिल्क और चॉकलेट्स के दाम तत्काल 5-10 फीसदी घटाएगा। उसके एमडी आर एस सोढ़ी ने कहा, 'उम्मीद है कि इससे कंजंप्शन बढ़ेगा और इस कैटिगरी की ग्रोथ सुधरेगी।' शुक्रवार को जी.एस.टी. परिषद ने शैंपू, डिटर्जेंट्स, चॉकलेट्स, कंडेंस्ड मिल्क, न्यूट्रीशन ड्रिंक्स, कन्फेक्शनरी, डियोड्रेंट्स और कॉस्मेटिक्स पर टैक्स घटाकर 18 फीसदी करने का निर्णय किया था। इन पर पहले 24-28 फीसदी तक टैक्स लग रहा था। कई कंपनियों ने कहा कि डिस्ट्रिब्यूटर और रीटेल चैनलों में मौजूदा स्टॉक्स के बिक जाने पर कीमतें घटाई जाएंगी। किटकैट चॉकलेट, मिल्कमेड कंडेंस्ड मिल्क और पोलो कन्फेक्शनरी बनाने वाली पैकेज्ड फूड्स फर्म नेस्ले के एक प्रवक्ता ने कहा, 'जी.एस.टी. से जुड़ी कमी के फायदे ग्राहकों को देने की अपनी नीति के तहत नेस्ले इंडिया हाल में की गई कमी की घोषणा के अनुसार कदम उठाएगी। मार्कीट में नए प्राइस स्टॉक्स के आने में कुछ वक्त लगेगा।'

आयुर्वेदिक प्रॉडक्ट्स बनाने वाले पतंजलि के प्रवक्ता एस के तिजारावाला ने कहा, 'जिन कैटिगरीज में जी.एस.टी. रेट्स घटाए गए हैं, उनमें हमारे उत्पादों के दाम भी कम किए जाएंगे। हमने यह प्रक्रिया शुरू कर दी है। हालांकि नए प्राइस वाले उत्पाद ग्राहकों तक पहुंचाने से पहले कई चैनल्स और प्रोसेसेज को अंजाम देना होगा।' हिंदुस्तान यूनीलिवर  ने कहा कि वो यह तय कर रहे हैं कि उत्पादों के दाम में कितनी कमी आएगी। डव साबुन और रिन डिटर्जेंट बनाने वाली एच.यू.एल. ने जुलाई-सितंबर क्वॉर्टर में दाम करीब 4 फीसदी घटाए थे। उसने कहा कि हर कैटिगरी पर पड़ने वाले असर के बजाय नेट लेवल पर कॉस्ट बेनिफिट्स को देखते हुए कीमत घटाई गई थी। पिछले महीने एच.यू.एल. ने कहा था कि अगर डिटर्जेंट पाउडर को 28 फीसदी से 18 फीसदी वाले स्लैब में लाया जाता है तो कंपनी उसमें में भी तत्काल दाम घटाएगी। 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You