Subscribe Now!

शेयर बाजार में ढाई फीसदी से अधिक की गिरावट

  • शेयर बाजार में ढाई फीसदी से अधिक की गिरावट
You Are HereBusiness
Sunday, December 03, 2017-2:02 PM

मुंबईः चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में आर्थिक गतिविधियों के पटरी लौटने के आंकड़े आने के बावजूद वित्तीय घाटा बढऩे की आशंका में हसोत्साहित निवेशकों द्वारा की गयी भारी बिकवाली से बीते सप्ताह घरेलू शेयर बाजार ढाई फीसदी से अधिक की गिरावट लेकर बंद हुए। बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स समीक्षाधीन अवधि में 846.30 अंक अर्थात 2.51 प्रतिशत गिरकर 33 हजार अंक के मनोवैज्ञानिक स्तर से नीचे 32832.94 अंक पर आ गया। इसी तरह से नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का निफ्टी 267.90 अंक अर्थात 2.58 प्रतिशत टूटकर 10121.80 अंक पर रहा।

पांच कारोबारी दिवस में से पांच दिन सेंसेक्स और निफ्टी में गिरावट दर्ज की गई। इससे पहले लगातार आठ दिनों तक शेयर बाजार में तेजी रही थी। विश्लेषकों का कहना है कि चालू वित्त वर्ष में अप्रैल से अक्तूबर तक वित्तीय घाटा के बजट अनुमान के 96 प्रतिशत पर पहुंचने से शेष पांच महीने में इसके लक्षित दायरे से बाहर निकलने के जोखिम को देखते हुए निवेशकों ने बिकवाली की है। यदि सरकार वित्तीय घाटा को लक्षित दायरे में रखने के उपाय करेगी तो इससे अर्थव्यवस्था पर दबाव बढ़ेगा और उससे विकास की गति धीमी पड़ सकती है।

निवेशकों ने इसी जोखिम को ध्यान में रखते हुए जमकर मुनाफावसूली की है। वैसे भी शेयर बाजार रिकार्ड स्तर पर पहुंच गया था तो कुछ करेक्शन की संभावना थी लेकिन एक सप्ताह में ढाई फीसदी से अधिक की गिरावट की उम्मीद नहीं की जा रही थी। उनका कहना है कि अगले सप्ताह बाजार में फिर से तेजी देखने को मिल सकती है क्योंकि पूंजी बाजार जिस स्तर पर आ गया है उस पर लिवाली की पूरी संभावना है। इसके साथ ही अगले सप्ताह रिजर्व बैंक की मौद्रित नीति समिति की बैठक होने वाली जिसमें ब्याज दरों पर चर्चा की जायेगी। यह बैठक मंगलवार से शुरू होगी और बुधवार को दोपहर बाद समिति की बैठक का निर्णय जारी किया जाएगा।

हालांकि अर्थशास्त्रियों ने ब्याज दरों में फिलहाल कमी की उम्मीद नहीं कर रहे हैं। उनका कहना है कि सरकार द्वारा वस्तु एंव सेवा कर (जीएसटी) दर को तर्कसंगत बनाए जाने के बाद से उपभोक्ता मांग बढ़ने लगी है जिससे विनिर्माण क्षेत्र के प्रदर्शन में और तेजी से सुधार की उम्मीद है। इसके साथ ही दुपहिया वाहनों छोटे यात्री वाहनों की मांग में तेजी आने की संभावना दिख रही है। कुल मिलाकर अभी आर्थिक गतिविधियों को गति देने के लिए ब्याज दरों में कमी की उम्मीद नहीं की जा सकती है। उनका कहना है कि महंगाई बढ़ने का खतरा अभी भी बना हुआ है क्योंकि हाल के दिनों में प्याज और टमाटर के साथ ही कई आवश्यक वस्तुओं की कीमतों में तेजी आई है। रिजर्व बैंक महंगाई को चार फीसदी के दायरे में रखने की कोशिश कर रहा है और इसलिए अभी वह ब्याज दरों में कमी करने का जोखिम नहीं उठाने वाला है।

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन

Recommended For You