बसंत पंचमी की अनेक गाथाएं छुपी हैं इतिहास के झरोखे में

  • बसंत पंचमी की अनेक गाथाएं छुपी हैं इतिहास के झरोखे में
You Are HereDharm
Tuesday, February 04, 2014-4:58 PM

बसंत पंचमी वाले दिन भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के पुरोधा व आजादी की अलख सबसे पहले जगाने वाले सतगुरु राम सिंह का जन्मदिन भी मनाया जाता है। इन्होंने गौ-हत्या के विरुद्ध अंग्रेजों के विरुद्ध आवाज उठाई थी। इसी दिन हिन्दी के यशस्वी कवि पं. सूर्यकांत त्रिपाठी निराला का जन्मदिन भी होता है एवं निराला जयंती भी मनाई जाती है।

ऋतुराज वसंत का महत्व आयुर्वेद के आचार्यों ने भी स्वीकार किया है। इस ऋतु में शरीर में नवीन रक्त संचार होता है। मनुष्य में आलस्य के स्थान पर चुस्ती आ जाती है। वेद कहता है कि वसंते भ्रमणं पथ्यं अर्थात वसंत ऋतु सैर अत्यन्त लाभप्रद है। इस ऋतु में किया गया व्यायाम अन्य ऋतुओं की अपेक्षा कई गुणा अधिक लाभदायक होता है।
 
बसंत पर पतंग उड़ाने का भी विशेष महत्व है। इस दिन बच्चे-बड़े सभी पतंग उड़ाते हैं। इसी दिन से अखाड़े सजने लगते हैं। खेलकूद दंगल-कुश्ती आदि के आयोजन शुरू हो जाते हैं। बच्चों की नई कक्षाएं शुरू हो जाती हैं। नए संकल्प नए जोश के साथ लोग अपना नया व्यवसाय शुरू करते हैं।
 
बसंत ऋतु से हमें कई प्रकार की शिक्षाएं मिलती हैं। चारों ओर से हंसती हुई प्रकृति संसार को हंसमुख रहने का आदेश देती है। वसंत ऋतु में जहां प्रकृति अपना पूर्ण श्रृंगार करती है, वहीं इस दिन मंदिरों में भगवान की प्रतिमा का वसंती वस्त्रों एवं पुष्पों से श्रृंगार किया जाता है और सारा वातावरण सुरमय हो उठता है।

परिवर्तन संसार का नियम है। सुख-दुख, लाभ-हानि, यश-अपयश संसार के घटनाक्रम में आते हैं। सुख आने पर प्रसन्नता, दुख आने पर विषाद मनुष्य के स्वाभाविक गुण हैं, लेकिन सत्वगुण ज्ञान प्रधान है। जिस प्रकार सत्वगुण की अभिवृद्धि होने पर ज्ञानी पुरुष सुख-दुख, जय-पराजय को समान समझता है। इस स्थिति में वह सात्विक आनंद को अनुभव करता है। ठीक उसी प्रकार वसंत ऋतु अत्यधिक शीत एवं ऊष्णता के प्रभाव से मुक्त होकर मानव जीवन में मधुरता प्रदान करती है।

                                                                                                                                                        —रवि शंकर शर्मा, जालंधर


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You