Mothering India के लिए भारतवंशी प्रोफेसर को पुरस्कार

  • Mothering India  के लिए भारतवंशी प्रोफेसर को पुरस्कार
You Are HereInternational
Thursday, March 20, 2014-4:03 PM

वॉशिंगटन:  डेलावेयर स्टेट यूनिवर्सिटी में अंग्रेजी भाषा की सहायक भारतीय-अमेरिकी प्रोफेसर सुष्मिता रॉय को नेशनल एनडॉवमेंट फॉर ह्यूमनिटीज (एन.ई.एच) अवार्ड के लिए चुना गया है। रॉय को यह पुरस्कार उनकी नई किताब ‘मदरिंग इंडिया’ के लिए दिया जा रहा है, जो ब्रिटिश शासन के दौर (1757-1947) की महिला लेखकों के बारे में है। उन्हें पुरस्कार स्वरूप एक निश्चित राशि दी जाएगी ताकि कुछ समय के लिए शिक्षण के पेशे से विराम लेकर वह अपनी किताब पूरी कर सकें।

यूनिवर्सिटी की वेबसाइट पर प्रसारित एक घोषणा के अनुसार, रॉय कुल 101 उम्मीदवारों में से चुने गए आठ लोगों में से एक हैं, जिन्हें इस प्रतिष्ठित पुरस्कार के लिए चुना गया है। एन.ई.एच एक स्वतंत्र संघीय एजेंसी है, जो 1965 में गठित की गई थी। यह मानविकी कार्यक्रमों के लिए लोगों को पुरस्कृत करने वाली अमेरिका की सबसे बड़ी संस्थाओं में से एक है।

2006 में रॉय ने अंग्रेजी में एम.फिल यूनिवर्सिटी ऑफ कलकत्ता से किया और पी. एच. डी 2011 में ब्रिटेन की यूनिवर्सिटी ऑफ ब्रिस्टॉल से की। उनके शोध के विषयों में महिला लेखन, विश्व साहित्य, लिंग एवं साम्राज्यवाद आदि रहे हैं।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You