तीसरे विश्व युद्ध की तैयारी में रूस, अमरीका और NATO दहशत में

You Are HereInternational News
Thursday, November 03, 2016-3:08 PM

मॉस्को : अमरीका और NATO विश्व युद्ध  के डर से फिर दहशत में दिखाई दे रहे हैं। इसकी वजह भी छोटी नहीं है क्योंकि रूस ने सोवियत संघ टूटने के बाद से तीसरे विश्व युद्ध की तैयारी में  वीरान पड़े अपने सभी मिलिट्री बेस को फिर से खोलना शुरू कर दिया है। अमरीकी मीडिया में आई ख़बरों के मुताबिक रूस ने दशकों से वीरान पड़े अपने कई मिलिट्री बेस पर आर्मी तैनात करनी शुरू कर दी है। सिर्फ इतना ही नहीं रूस इन सैन्य अड्डों पर अपनी अत्याधुनिक न्यूक्लियर मिसाइल भी तैनात कर रहा है। नाटो को डर है कि रूस इन अड्डों से वॉशिंगटन, कैलिफोर्निया, साउथ दकोटा और अलास्का को अपने निशाने पर लेने की तैयारी में है।

बता दें कि ये सभी सेकेंड वर्ल्ड वर्ल्ड वॉर के वक़्त USSR के अहम् आर्मी बेस हुआ करते थे। हालांकि साल 1960 के बाद से ये बेस एकदम वीरान थे और भुतहा शहर में तब्दील हो गए थे। अमरीकी मीडिया में आई रिपोर्ट्स के मुताबिक सोवियत यूनियन के टूटने के बाद अब भी रूस में ऐसे 15 मिलिट्री बेस मौजूद हैं जिन्हें देश के ऑफिशियल नक़्शे से दूर रखा जाता है। दुनिया में किसी भी देश के पास इन शहरों के नाम और लोकेशन की पुख्ता जानकारी नहीं है। सुरक्षा वजहों के चलते इन जगहों पर विदेशियों या मीडिया को भी जाने की इजाजत नहीं है। 

रामेन्की इमरजेंसी बंकर
CIA की फाइलों में इसे ज़मीन के 30 फीट नीचे मौजूद एक बेहद सुरक्षित बंकर बताया गया है। ये रामेन्की डिस्ट्रिक्ट में मौजूद है और इसका निर्माण सेकेंड वर्ल्ड वॉर के एकदम बाद साल 1950 में बनाया गया था। इसे इसलिए बनाया गया था जिससे हमले या क्राइसिस के वक़्त रूस के टॉप लीडर्स के परिवारों को सुरक्षित रखा जा सके। करीब 500 एकड़ में फैला यह बंकर जमीन से 30 फुट के अंदर है। बंकर का कवच इतना मजबूत है कि ये न्यूक्लियर हमला भी झेल सकता है। इसकी सेफ्टी के लिए रूसी सेना की एक स्पेशल टुकड़ी हमेशा यहां तैनात रहती है। न्यूक्लियर मिसाइलों के अलावा यह बंकर मिसाइल डिफेंस सिस्टम से भी लैस है।

बलाकलावा सबमरीन बेस 
ये बिलकुल ब्लैक सी के नज़दीक मौजूद है और रूस के लिए सामरिक दृष्टि से बेहद महत्वपूर्ण माना जाता है। जब सोवियत संघ टूटा तो इसका कुछ हिस्सा यूक्रेन में भी चला गया। अमेरिकी मीडिया के मुताबिक रूस ने इस बेस को फिर से खोल दिया है और यहां अपनी न्यूक्लियर मिसाइल तैनात कर रहा है। ये पहले रूस का सबमरीन रिपेयर सेंटर हुआ करता था जिसे साल 1995 में बंद कर दिया गया था। 

गुडिम बेस 
इस मिलिट्री बेस के बारे में कई कहानियां सुनने को मिल जाएंगी। कहा जाता है ये रूस का सबसे ख़ुफ़िया और अत्याधुनिक मिलिट्री बेस है। हालांकि रूसी सरकार ने साल 2002 में इसे अचानक पूरी तरह से बंद कर दिया। यहां करीब 5000 लोग रहा करते थे जो इस जगह को छोड़कर चले गए जिससे ये खंडहर में तब्दील हो गया। यहां कोई आता-जाता भी नहीं है और ये जगह इतनी वीरान है कि किसी भी आम आदमी के लिए यहां पहुंचना बिलकुल नामुमकिन है। रूस ने इस बेस को भी एक बार फिर खोल दिया है इस्तेमाल में लाना शुरू कर दिया है। 

झितकुर अंडरग्राउंड बेस
ये दुनिया के टॉप-10 अंडरग्राउंड मिलिट्री बेस में दूसरे नंबर पर रखा जाता है। झितकुर रूस के कपुस्तिन यार में स्थित है और जानकारी के मुताबिक ज़मीन से 400 मीटर नीचे मौजूद है। CIA इसे रूस का Area 51 कहती है क्योंकि यहां असल में क्या होता है इसकी आज तक किसी को कोई जानकारी नहीं है। सोवियत यूनियन ने मशहूर स्पूतनिक सैटेलाइट भी यहीं से लॉन्च किया था। इस बेस के आस-पास तक भी नहीं पहुंचा जा सका है और रूस ऐसे किसी बेस के होने से लगतार इनकार करता रहा है। 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You