यू एंड आई वॉल्ट्स लिमिटेड पर IT डिपार्टमेंट की कार्रवाई, 85.2 करोड़ का सामान जब्त

  • यू एंड आई वॉल्ट्स लिमिटेड पर IT डिपार्टमेंट की कार्रवाई, 85.2 करोड़ का सामान जब्त
You Are HereLatest News
Sunday, January 14, 2018-10:19 AM

नई दिल्ली : आई.टी. डिपार्टमैंट ने शनिवार को यू.एंड.आई. वॉल्ट्स लिमिटेड पर छापेमारी की बड़ी कार्रवाई की। इस छापेमारी में 8 करोड़ की नकदी और ज्वैलरी समेत 85.2 करोड़ का सामान जब्त किया गया है। आई.टी. डिपार्टमैंट के सूत्रों के हवाले से यह जानकारी दी गई है। इस ग्रुप पर बीते करीब एक हफ्ते से कार्रवाई की जा रही है। डिपार्टमैंट ने छापेमारी के बाद साऊथ एक्स स्थित लॉकर कम्पनी यू.एंड.आई. वॉल्ट्स लिमिटेड को सील कर दिया है। इसे दिल्ली की सबसे बड़ी सेफ डिपॉजिट वॉल्ट कम्पनी कहा जाता है। इसका इस्तेमाल कई बड़े कारोबारी करते हैं। इसकी स्थापना 1947 में की गई थी। दिल्ली व गुडग़ांव में इसके कई दफ्तर हैं। साथ ही कई देशों में इसके बिजनैस नैटवर्क फैले हैं।

इसलिए हो रही कार्रवाई
आई.टी. डिपार्टमैंट के अफसरों के मुताबिक नोटबंदी के बाद आयकर रिटर्न व कैश डिपॉजिट को लेकर कई जानकारियां सामने आई थीं। इन जानकारियों को बैंकों ने डिपार्टमैंट के साथ शेयर किया। इसी आधार पर कार्रवाई की जा रही है। वहीं एक सीनियर ऑफिसर ने बताया कि यह मामला नोटबंदी के बाद काले धन का पता लगाने से जुड़ा है।

प्राइवेट लॉकर में करोड़ों रखते हैं लोग 
यह कम्पनी लोगों को प्राइवेट लॉकर मुहैया कराती है, जहां लोग अपना कीमती सामान रख सकते हैं। यहां लॉकर खोलने के लिए कोई अकाऊंट खुलवाने की जरूरत नहीं होती और बहुत कम कागजी कार्रवाई में लॉकर मिल जाता है। यहां किसी तरह का रिकार्ड जमा नहीं होता और सरकार के पास भी इस तरह की कोई जानकारी नहीं होती। कम्पनी के लॉकर पूरे साल रात 10 बजे तक खुले रहते हैं। बैंक लॉकर के मुकाबले इन्हें ऑपरेट करना काफी आसान होता है इसीलिए कई कारोबारी इनका यूज करते हैं। इसके बदले उन्हें 1200 से 15,000 रुपए तक की सालाना फीस देनी होती है। 

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन

Recommended For You