देश को सरदार साहब वाला सेकुलरिज्म चाहिए, वोट बैंक वाला नहीं: मोदी

You Are HereNational
Thursday, October 31, 2013-4:12 PM

भरूच: बीजेपी के पीएम उम्मीदवार नरेंद्र मोदी ने गुजरात के भरूच में देश के पहले गृह मंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल की प्रतिमा का शिलन्यास रखा। शिलान्यास के बाद मोदी ने कहा, यह स्मारक विश्व भर में आकर्षण का केंद्र होगा। समारोह में मोदी के साथ लालकृष्ण आडवाणी भी मौजूद हैं। लालकृष्ण आडवाणी ने कहा कि अगर सरदार पटेल नहीं होते तो देश के कई टुकड़े हो जाते। इसकी ऊंचाई 182 मीटर होगी, जो स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी से दोगुनी ऊंचाई है। यह दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा होगी और इसे 'स्टैच्यू ऑफ यूनिटी' कहा जाएगा।

नर्मदा के तट पर सरदार पटेल की प्रतिमा का शिलान्यास करने के बाद नरेंद्र मोदी ने एक रैली को संबोधित करते हुए कहा कि आज एक नए संकल्प का शिलान्यास हुआ है। इस प्रतिमा के लिए सबने प्रयास किया है। उन्होंने कहा आज एक ऐतिहासिक घटना घट रही है हमने कई साल से ये सपना संजोया था।


मोदी ने कहा कि सरदार पटेल ने देश को जोडऩे का काम किया। अगर इतिहास की धरोहर देखें तो चाणक्य के बाद इस देश को एक करने का काम किसी ने किया, तो वह हैं सरदार पटेल। हमें अपनी साझी विरासत पर गर्व होना चाहिए। मोदी ने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की इस बात के लिए 'सराहना' की कि प्रधानमंत्री ने सरदार पटेल को धर्मनिरपेक्ष बताया था। मोदी ने कहा कि सरदार पटेल को किसी एक पार्टी से न जोड़ें, अपने इतिहास के जरूर याद रखें। उन्होंने कहा मां के दूध में कभी दरार नहीं हो सकती शांति, एकता, सद्भाव के बिना देश की तरक्की नहीं हो सकती। हमें एकता के मंत्र को घर-घर पहुंचाना है। अंबेडकर किस दल के हैं नहीं पूछते हैं।


मोदी ने कहा कि आज मुझे दुख से कहना पड़ रहा है कि आज मेरा हर शब्द पीएम की टीम और उनके बॉस की टीम सुनती है। मैं उनसे कहना चाहता हूं कि सरदार सरोवर डैम पर गेट लगाना बाकी है। तीन साल से कह रहा हूं। वो मुझे कहते है कि आपकी बात तो अच्छी है। फिर मिलता हूं तो कहते हैं क्या अभी तक हुआ नहीं। फिर मिलते है तो यही कहते हैं। अब बताइए मैं क्या करूं। मोदी ने कहा कि नर्मदा बांध पर गेट बनाने की केंद्र से इजाजत नहीं मिली। केंद्र सरकार ही काम करने का श्रेय ले ले। साथ ही मोदी ने कहा कि कुछ लोग मेरे विरोध के बिना रह नहीं सकते। कुछ मित्रों ने तो मुझे खत्म करने की सुपारी ली है। ये लोग पता नहीं क्या-क्या गंध फैलाते रहते हैं। मोदी ने कहा कि राजनीतिक छुआछूत खत्म करना होगा। हमें वोटबैंक वाला धर्मनिरपेक्ष नहीं चाहिए।


मोदी ने कहा कि गुजरात व राजस्थान में पानी का विशेष महत्व है। गुजरात सरकार का सबसे ज्यादा खर्च पानी पर है। नर्मदा नदी पर सरदार सरोवर बांध और इसके जरिये गुजरात-राजस्थान में पानी पहुंचाने का प्रयास सरदार पटेल का सपना था। यह उन्हीं के सपने पर सारा काम हो रहा है। सरदार सरोवर बांध परियोजना के लिए पिछली सरकारों ने जितना खर्च किया, उससे डबल खर्च हमारी सरकार ने पिछले दस सालों में किया। मोदी ने कहा डैम की सुरक्षा का ख्याल रखा जाएगा, पानी पर आदिवासियों का पूरा अधिकार है। उन्होंने कहा आज भी हम गुलामी की छाया से निकल नहीं पाए हैं। वोट बैंक वाला सेकुलरिज्म नहीं चाहिए। देश को सरदार पटेल का सेकुलरिज्म चाहिए।

मोदी ने अटल बिहारी वाजपेयी की तारीफ करते हुए कहा, भारत को हीन भाव से देखने की आदत सी हो गई है। जब वाजपेयी जी ने शासन में आने के कुछ ही समय बाद परमाणु बम विस्फोट किया, तो पूरी दुनिया ने लोहा माना।

आज सरदार वल्लभ भाई पटेल की 137वीं जयंती है। मूर्ति की नींव रखने के लिए बीजेपी ने खासतौर पर आज के दिन का चुनाव किया है। मूर्ति का निर्माण कार्य दो चरणों में पूरा किया जाएगा। यह पांच साल में करीब 2500 करोड़ रुपये की लागत से तैयार होगी।

इस बीच 'स्टैचू ऑफ यूनिटी' की नींव रखे जाने से पहले मोदी ने अपने ब्लॉग पर लिखा, 'इस साल सरदार पटेल की जयंती ज्यादा खास होगी क्योंकि हम स्टैचू ऑफ यूनिटी की नींव रखने जा रहे हैं। भारत के लौह पुरुष के सम्मान में बनाई गई यह मूर्ति 182 मीटर की होगी और दुनिया की सबसे ऊंची मूर्तियों में होगी।'

गौरतलब है कि सरदार पटेल को लेकर नरेंद्र मोदी के प्रेम से कांग्रेस असहज महसूस कर रही है और दोनों पार्टियों के बीच इसको लेकर जुबानी जंग भी हो रही है। मंगलवार को सरदार पटेल संग्रहालय के उद्घाटन के दौरान एक तरह से प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और नरेंद्र मोदी के बीच पटेल की विरासत पर दावे को लेकर बहस सी छिड़ गई थी। प्रधानमंत्री ने पटेल को कांग्रेस का बताया था।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You