वोट के बदले नोट: अमर सिंह सहित 4 सांसद बरी

  • वोट के बदले नोट: अमर सिंह सहित 4 सांसद बरी
You Are HereNational
Friday, November 22, 2013-5:00 PM

नई दिल्ली: दिल्ली की एक अदालत ने शुक्रवार को राज्यसभा सांसद और समाजवादी पार्टी (सपा) के पूर्व सदस्य अमर सिंह और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के तीन सांसदों को 2008 के वोट के बदले नोट मामले में बरी कर दिया। विशेष न्यायाधीश नरोत्तम कौशल ने भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी के करीबी सहयोगी सुधींद्र कुलकर्णी और भाजपा कार्यकर्ता सोहैल हिंदुस्तानी को भी इस मामले में बरी कर दिया। बहरहाल, अदालत ने अमर सिंह के पूर्व सहयोगी संजीव सक्सेना के खिलाफ भ्रष्टाचार का मामला तय किया है।

 

उल्लेखनीय है कि 22 जुलाई, 2008 को भाजपा सांसदों -फग्गन सिंह कुलस्ते, महावीर भगोरा और अशोक अग्रवाल- ने विश्वास मत के ठीक पहले संसद में नोटों की गड्डियां लहराकर दावा किया था कि मनमोहन सरकार के पक्ष में वोट देने के लिए उनको पैसे दिए गए थे। अमर सिंह के संबंध में अदालत ने कहा कि उनके खिलाफ परिस्थितिजन्य साक्ष्य संदेह से आगे नहीं जाते हैं।

 

कुलकर्णी की भूमिका के बारे में अदालत ने कहा कि उनकी भूमिका केवल अर्गल, कुलस्ते और भगोड़ा को टीवी चैनलों के सामने लाने की थी ताकि दलबदल से जुड़े साक्ष्य की रिकार्डिंग की जा सके। अदालत ने यह भी कहा कि आगे के घटनाक्रम में कुलकर्णी की कोई भूमिका नहीं थी और गलत रास्तों से अवैध कार्य करने के विचार से कोई बैठक नहीं की गई और इस संबंध में कोई प्रत्यक्ष साक्ष्य नहीं हैं। अदालत ने यह भी कहा टीवी चैनल के दल से मुलाकात करने का मकसद केवल संसद में दलबदल का खुलासा करना था।

 

भाजपा नेता अर्गल, कुलस्ते और भगोड़ा के बारे में अदालत ने कहा कि टीवी चैनल को आमंत्रित करने और कैमरा के समक्ष उपस्थित होने को यह नहीं कहा जा सकता कि वे अवैध गतिविधियों में शामिल थे। अदालत ने अभियोजन पक्ष की उन दलीलों को भी खारिज कर दिया कि संसद में दलबदल का पर्दाफाश करने का कार्य केवल ड्रामा था। न्यायाधीश ने कहा कि सुहेल हिन्दुस्तानी की ओर से किसी तरह के अवैध कार्यो के किये जाने को प्रदर्शित करने के लिए साक्ष्य नहीं है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You