दबंग बनाम शिक्षित के बीच होगी जंगपुरा की ‘जंग’

  • दबंग बनाम शिक्षित के बीच होगी जंगपुरा की ‘जंग’
You Are HereNational
Saturday, November 30, 2013-12:03 AM

नई दिल्ली(सुनील पाण्डेय): 60 फीसदी से ज्यादा पॉश इलाकों वाला जंगपुरा विधानसभा क्षेत्र में इस बार कांग्रेस और भाजपा की प्रतिष्ठा दांव पर लगी है। पिछले 3 बार से विधायक रहे कांग्रेस के नेता तरविंदर सिंह मारवाह चौथी बार इतिहास रचने के लिए मैदान में उतरे हैं।

भाजपा 15 साल बाद इस सीट पर खाता खोलने को बेताब है। यह सीट अकालियों के खाते में थी, जिसके चलते भाजपा फ्रंट पर नहीं थी। इस बार भाजपा ने पंकज जैन को यहां से उतारा है। उनके समर्थन और सीट को कांग्रेस से छीनने के लिए पार्टी के दिग्गजों ने पूरी ताकत झोंक दी है।

इस सीट पर तीसरी दावेदारी आम आदमी पार्टी की है, जिसने मनिंदर सिंह को मैदान में उतारा है। इस सीट पर कई निर्दलीय एवं प्रादेशिक पार्टियों के प्रत्याशी खड़े हैं जो 2 प्रमुख पार्टियों के गणित को बिगाड़ सकते हैं। करीब 1.40 लाख वोटरों वाली इस सीट में 4 पार्षद हैं।

इसमें से 3 पार्षद कांग्रेस पार्टी के और 1 पार्षद भारतीय जनता पार्टी का है। इस विधानसभा क्षेत्र में 60 फीसदी से अधिक क्षेत्र पॉश माना जाता है। निजामुद्दीन बस्ती सहित आसपास के कई मोहल्लों की बात करें तो 80 फीसदी से ज्यादा वोट कांग्रेस की परंपरागत वोट बैंक माना जाता है।

कांग्रेस के इसी गढ़ में इस बार आम आदमी पार्टी और भारतीय जनता पार्टी ने मिलकर घुसपैठ कर रहा है। आम आदमी पार्टी इस क्षेत्र के मुस्लिम गढ़ में अगर वोटकटवा का रोल निभा देती है तो भाजपा के लिए राह आसान हो जाएगी। जंगपुरा विधानसभा क्षेत्र में 24 फीसदी वोटर पंजाबी/सिख हैं तो दूसरे नंबर पर 22 फीसदी मुस्लिम वोट हैं। 20 से 22 फीसदी वोट अनुसूचित जाति, जनजाति से जुड़े हैं तो करीब 7 फीसदी बैश्य समाज के मतदाता हैं।

यहां 9 फीसदी जैन समाज के वोट हैं। पिछले 3 बार से जीतते आ रहे कांग्रेस के विधायक तरविंदर सिंह मारवाह दबंग प्रवृत्ति के माने जाते हैं। उनके मुकाबले भाजपा के प्रत्याशी पंकज जैन पेशे से इंजीनियर हैं। यही कारण है कि चुनाव में वोट भी दबंग बनाम शिक्षित कहकर मांगा जा रहा है। इसके अलावा विकास के मुद्दे और जनता से दूरी मारवाह का नंबर घटा सकता है। दिल्ली सरकार में वो मुख्यमंत्री के संसदीय सचिव थे लेकिन बेटी के एडमिशन मामले में फर्जीवाड़ा उजागर होने पर पद छोडऩा पड़ा।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You