सीम्रांध को विशेष दर्जा तो बिहार को क्यों नही: नीतीश

  • सीम्रांध को विशेष दर्जा तो बिहार को क्यों नही: नीतीश
You Are HereNational
Thursday, February 27, 2014-5:35 PM

पटना: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बिहार को विशेष राज्य का दर्जा देने को लेकर कहा कि अगर सीम्रांध को विशेष दर्जा दिया जा सकता है, तो बिहार को क्यूं नही। नीतीश ने कहा कि सीमांध्र को विशेष राज्य का दर्जा देने पर उन्हें कोई एतराज नहीं। परंतु जहां हंगामा होता है उसके बारे में तुरंत सोचा जाता है। जबकि बिहार के लोगों ने शंातिपूर्ण ढंग से अपनी आवाज उठाई , तो उन्हें अनसुनी कर दिया। वही, बिाहर को विशेष दर्जा दिलाए जाने के आंदोलन में भाजपा के साथ समर्थन के लेन-देन से इंकार कर दिया।

उन्होने केंद्र के कथित अन्याय और भेदभावपूर्ण नीति के विरोध में लोगों से 28 फरवरी की शाम को मशाल जुलूस, एक मार्च की सुबह प्रभात फेरी, उसी दिन शाम में थाली पीटकर तथा दो मार्च को आम हडताल कर अपना संकल्प और राय प्रकट करने की अपील की है। जदयू, भाकपा और माकपा के प्रदेश नेताओं के साथ आज मुख्यमंत्री आवास पर पत्रकारों के साथ बातचीत करते हुए नीतीश ने केंद्र पर बिहार को विशेष राज्य का दर्जा देने में इस प्रदेश के साथ अन्याय करने तथा भेदभावपूर्ण रवैया अपनाने का आरोप लगाया और लोगों से इसको लेकर अपना संकल्प और राय प्रकट करने के लिए आगामी 28 फरवरी की शाम में मशाल जुलूस, एक मार्च की सुबह प्रभात फेरी, उसी दिन शाम में थाली पीटकर तथा दो मार्च को आम हडताल करने की अपील की है।

उन्होंने कहा कि एक मार्च की शाम 7:00 सात बजे से 7:05 तक सभी परिवार के लोग अपने-अपने घरों से बाहर निकलकर थाली पीटकर प्रतिरोध जताएं और उससे निकली आवाज संवेद के रूप में प्रकट होकर दिल्ली में बैठे लोगों के कान तक पहुंचेगी जिससे उन्हें लगे कि उन्होंने बिहार के साथ अन्याय और भेदभाव किया है। नीतीश ने कहा कि सीमांध्र को विशेष राज्य का दर्जा देने के केंद्र के वादे पर कहा कि यह उसे दिया जाए हमें कोई एतराज नहीं पर जहां हंगामा होता है उसके बारे में तुरंत सोचते हैं और जहां के लोग शांतिपूर्ण ढंग से अपनी आवाज उठाते हैं उसको वे अनसुनी करते हैं।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You