पैक की रैंकिंग सुधारने के लिए यू.टी. सचिवालय भवन में बैठक

Edited By Ajay Chandigarh,Updated: 02 Aug, 2022 09:59 PM

also did a subtle comparison of the various parameters of the pack

राष्ट्रीय संस्थागत रैंकिंग फ्रेमवर्क (एन.आई.आर.एफ.) भारत रैंकिंग 2022 में पंजाब इंजीनियरिंग कॉलेज (पैक) (डीम्ड टू बी यूनिवर्सिटी) की रैंकिंग की समीक्षा के लिए यू.टी. सचिवालय भवन में बैठक हुई। बैठक में प्रशासक के सलाहकार धर्मपाल, शिक्षा सचिव पूर्वा...

चंडीगढ़,(रश्मि हंस): राष्ट्रीय संस्थागत रैंकिंग फ्रेमवर्क (एन.आई.आर.एफ.) भारत रैंकिंग 2022 में पंजाब इंजीनियरिंग कॉलेज (पैक) (डीम्ड टू बी यूनिवर्सिटी) की रैंकिंग की समीक्षा के लिए यू.टी. सचिवालय भवन में बैठक हुई। बैठक में प्रशासक के सलाहकार धर्मपाल, शिक्षा सचिव पूर्वा गर्ग की अध्यक्षता में आयोजित की गई थी। निदेशक तकनीकी शिक्षा अमनदीप सिंह भट्टी, सी.आई.आई. अध्यक्ष राजीव कालिया, सी.आई.आई. निदेशक सुमन प्रीत सिंह और पैक की एन.आई.आर.एफ. रैंकिंग के विश्लेषण पर एक प्रस्तुति पैक निदेशक प्रो. (डा.) बलदेव सेतिया ने प्रस्तुत की।

 


पैक डायरेक्टर प्रो. (डा.) बलदेव सेतिया ने एन.आई.आर.एफ. रैंकिंग प्रक्रिया के सदस्यों को रैंकिंग को प्रभावित करने वाले माह्वदंडों और रिकॉर्ड के तहत अवधि से अवगत कराया। इसके एक भाग के रूप में निदेशक ने देश के शीर्ष दस संस्थानों, क्षेत्र के अन्य शीर्ष संस्थानों के साथ पैक का तुलनात्मक विश्लेषण प्रस्तुत किया। पांच वर्ष के दौरान पैक के विभिन्न मानकों की सूक्ष्म तुलना भी की गई।

 


विश्लेषण में सामने आया कि संस्थान में फैकल्टी की कमी है। इस तथ्य को महसूस करते हुए कि संकाय एकमात्र सबसे महत्वपूर्ण कारक है, जो रैंकिंग के सभी मानदंडों को प्रभावित करता है। निदेशक ने उल्लेख किया कि पैक ने पहले ही कमी की दिशा में काम करना शुरू कर दिया है और 58 रिक्त पदों के लिए नियमित संकाय भर्ती शुरू कर दी है। पैक को इन 58 पोस्टों के लिए अब तक 1973 आवेदन प्राप्त हुए है। 

 


डा. सेतिया ने कहा कि पैक की रैकिंग में सुधार के लिए लगातार काम किया जा रहा है। पैक द्वारा अपनी रैंकिंग में सुधार के लिए किए जा रहे हैं। इसमें राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलनों का आयोजन, नियमित आधार पर छात्रों के लिए कार्यशालाएं, मुख्य विषयों के प्रति अधिक केंद्रित दृष्टिकोण रखने के लिए एमटेक कार्यक्रमों के संशोधित पाठ्यक्रम शामिल है। अधिक शोध और पेपर प्रकाशित करने के लिए संकाय सदस्यों को भी वित्तीय रूप से प्रोत्साहित किया जाता है। रिसर्च को बढ़ावा देने के लिए छात्रों और शिक्षकों के लिए एक केंद्रीय रिसर्च सुविधा का निर्माण किया जा रहा है। संस्थान मौजूदा केंद्रों के पुनरुद्धार, छात्रों के लिए छात्रावास सुविधाओं और संकाय के लिए आवासीय सुविधाओं का विस्तार करके भौतिक बुनियादी ढांचे को मजबूत करने पर भी ध्यान केंद्रित कर रहा है। शृंखला ने छात्र आवास की स्थिति को आसान बनाने के लिए ज्वालामुखी छात्रावास के मुद्दों को उठाने पर सहमति व्यक्त की। संस्थान ने बाहरी सहकर्मी समीक्षा के लिए जाने का भी फैसला किया है।

 


इस दौरान शिक्षकों की संख्या को बढ़ाने का अनुरोध किया गया ताकि न्यूनतम वांछित संकाय छात्र शिक्षक एक अनुपात पांच हो सके। प्रशासन इस मुद्दे को गृह मंत्रालय, भारत सरकार के साथ आगे बढ़ाने पर सहमत हुआ।

Related Story

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!