देवगुरु बृहस्पति का वृष राशि में गोचर, जानें कर्क राशि वालों पर प्रभाव

Edited By Prachi Sharma,Updated: 02 May, 2024 10:09 AM

आज देव गुरु बृहस्पति की बात करेंगे। 1 मई को देव गुरु बृहस्पति का गोचर होने जा रहा है। 1 मई को गुरु वृषभ राशि में गोचर करना शुरू कर देंगे और अगले साल 14 मई तक इसी राशि

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ

Guru transit 2024:  आज देव गुरु बृहस्पति की बात करेंगे। 1 मई को देव गुरु बृहस्पति का गोचर होने जा रहा है। 1 मई को गुरु वृषभ राशि में गोचर करना शुरू कर देंगे और अगले साल 14 मई तक इसी राशि में रहेंगे। इस दौरान गुरु 120 दिन के लिए वक्री भी होंगे। यह लगभग 9 अक्टूबर को होगा और 4 फरवरी को गुरु मार्गी हो जाएंगे। 6 मई के आसपास गुरु अस्त हो जाएंगे। 2 या 3 जून के आसपास गुरु उदय हो जाएंगे। 

कर्क राशि के जातकों के लिए गएउ बहुत बड़ी राहत लेकर आए हैं। शनि यहां अष्टम में गोचर कर रहे हैं। अष्टम का शनि आपको बहुत दिक्कत देता है। कर्म के भाव के ऊपर शनि की तीसरी दृष्टि भी रहती है। सातवीं दृष्टि धन भाव के ऊपर रहती है। यहां पर कर्म और धन के मामले में थोड़ी सी समस्या आ रही थी। शनि यहां पर पंचम भाव को भी प्रभावित करते हैं। शनि पंचम भाव को भी प्रभावित करते हैं। शनि के द्वारा जो समस्या थी वो अब गुरु के द्वारा ठीक हो जाएगी। कुंडली में गुरु चार भावों के कारक होते हैं। कर्क राशि चन्द्रमा की राशि है और गुरु और चन्द्रमा आपस में मित्र हैं। इस वजह से गुरु का यह गोचर कर्क राशि वालों के लिए बेहद ही शानदार है। कर्क राशि के लिए गुरु भाग्य स्थान के स्वामी हो जाते हैं। भाग्य स्थान का स्वामी आपकी कुंडली में शुभ गोचर में आ गया है। यह अपनी दो राशियों के बढ़िया फल करेगा। गुरु की दूसरी राशि आपके भाग्य स्थान में हैं। भाग्य आपका साथ देना शुरू करेगा। जो भी काम आप करना चाहते हैं उसमें आपको सफलता प्राप्त होगी। 

यदि आपके ऊपर कोई कर्जा है तो कर्ज से आपको मुक्ति मिल जाएगी। यदि आपको कोई बीमारी है तो वहां भी आपको फायदा देखने को मिलेगा। गुरु की दृष्टि जहां-जहां है वहां आपको इसके बढ़िया फल मिलेंगे। गुरु सबसे पहले आपके ग्यारहवें भाव को एक्टिव करेंगे। जितनी भी तरक्की और आय होती है वो इसी भाव से आती है। आय में वृद्धि देखने को मिलेगी। गुरु की पांचवी दृष्टि सीधे आपके पराक्रम वाले भाव के ऊपर जाती है। केतु यहां पहले से शुभ गोचर में हैं। गुरु की दृष्टि इस भाव के ऊपर आ गई है। जो भी काम करेंगे वो आप पराक्रम के साथ करेंगे। भाइयों से आपको सहयोग मिलेगा। अगर कोई मन-मुटाव चल रहा था तो वहां पर भी आपको इसका फायदा देखने को मिलेगा। गुरु की एक दृष्टि पंचम भाव के ऊपर जा रही है। यदि आप संतान की वेट कर रहे हैं तो आपको फायदे देखने को मिलेंगे। अगले एक साल के भीतर आपको संतान सुख मिल सकता है। जो लोग सिंगल हैं उनकी लाइफ में भी कोई आ सकता है। आगे जाकर पैसा मिलना शुरू हो जाएगा। गुरु की एक दृष्टि सप्तम भाव के ऊपर। सप्तम आपके पार्टनर का भाव है। लाइफ में कोई आ सकता है। शादी होने की भी सम्भावना है। जो लोग बिजनेस पार्टनर ढूंढ रहे थे वहां पर भी आपको फायदा देखने को मिल सकता है। 

गुरु के उपाय- यदि आप किसी को ज्ञान देते हैं तो आपकी कुंडली में गुरु स्ट्रांग होना शुरू हो जाते हैं। यदि आप किसी स्टूडेंट की हेल्प करते हैं तो आपके लिए ये भी बढ़िया है। 

नरेश कुमार
https://www.facebook.com/Astro-Naresh-115058279895728

Related Story

Trending Topics

Afghanistan

134/10

20.0

India

181/8

20.0

India win by 47 runs

RR 6.70
img title
img title

Be on the top of everything happening around the world.

Try Premium Service.

Subscribe Now!