पाकिस्तानः चुनाव नतीजों को लेकर कोर्ट में चुनौती याचिकाओं की बाढ़, 24 निर्वाचन क्षेत्रों के वोट खारिज

Edited By Tanuja,Updated: 12 Feb, 2024 04:41 PM

rejected ballots exceed victory margin in 24 na constituencies in pak

पाकिस्तान की अदालतों में याचिकाओं की बाढ़ आ गई है क्योंकि जेल में बंद पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान की पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ द्वारा...

इस्लामाबादः पाकिस्तान की अदालतों में याचिकाओं की बाढ़ आ गई है क्योंकि जेल में बंद पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान की पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ द्वारा समर्थित कई उम्मीदवारों ने चुनावी धांधली का आरोप लगाते हुए आठ फरवरी को हुए आम चुनाव के नतीजों को चुनौती दी है।  दिलचस्प सांख्यिकीय आंकड़े के अनुसार, खारिज किए गए मतपत्रों की संख्या कम से कम 24 नेशनल असेंबली निर्वाचन क्षेत्रों में जीत के अंतर से अधिक थी। यह अंतर संभावित रूप से कानूनी लड़ाई के द्वार खोलता है, क्योंकि कई हारने वाले उम्मीदवारों ने परिणामों की समीक्षा के लिए अदालतों में याचिकाओं की बाढ़ ला दी है।डॉन अखबार की एक रिपोर्ट के अनुसार, जीत के अंतर से अधिक संख्या में अस्वीकृत वोटों वाले 22 निर्वाचन क्षेत्र पंजाब में थे, जिनमें से एक-एक खैबर पख्तूनख्वा और सिंध प्रांत में था।

 

पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) ने इनमें से 13 निर्वाचन क्षेत्रों में चुनावी दौड़ जीती, पांच पर पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी), चार पर पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) समर्थित निर्दलीय और दो पर अन्य निर्दलीयों द्वारा दावा किया गया। अधिकांश याचिकाएं लाहौर उच्च न्यायालय में दायर की गईं, जबकि खान की पार्टी समर्थित दो उम्मीदवारों ने चुनाव परिणामों के खिलाफ इस्लामाबाद उच्च न्यायालय का रुख किया और कम से कम तीन याचिकाएं सिंध उच्च न्यायालय में दायर की हैं। पाकिस्तान के निर्वाचन आयोग ने रविवार को आम चुनाव के अंतिम परिणाम घोषित किए, जिसमें खान की पार्टी द्वारा समर्थित निर्दलीय उम्मीदवारों ने 101 सीट पर जीत दर्ज की है।

 

वहीं, तीन बार के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) 75 सीट जीतकर तकनीकी रूप से संसद में सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी है। बिलावल जरदारी भुट्टो की पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी को 54 सीट मिली, जबकि विभाजन के दौरान भारत से आए उर्दू भाषी लोगों की मुत्ताहिदा कौमी मूवमेंट पाकिस्तान (एमक्यूएम-पी) को 17 सीट हासिल हुई है। बाकी 12 सीट पर अन्य छोटे दलों ने जीत हासिल की।

 

 लाहौर उच्च न्यायालय में दायर याचिकाओं में पीएमएल-एन सुप्रीमो नवाज शरीफ और उनकी बेटी मरियम नवाज की जीत को चुनौती दी गई। ऐसी याचिकाएं दायर करने वालों में से अधिकांश लोग खान की पार्टी समर्थित निर्दलीय उम्मीदवार हैं। याचिकाएं दायर करने वालों में पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री परवेज इलाही और उनकी पत्नी कैसर, खैबर पख्तूनख्वा के पूर्व वित्त मंत्री तैमूर झागरा और खैबर पख्तूनख्वा के पूर्व विधानसभा अध्यक्ष महमूद जान जैसे राजनीतिक नेता शामिल हैं। लाहौर में, पूर्व प्रधानमंत्री शरीफ, उनकी बेटी मरयम और पूर्व रक्षा मंत्री ख्वाजा आसिफ की जीत को चुनौती दी गई है।

Related Story

India

397/4

50.0

New Zealand

327/10

48.5

India win by 70 runs

RR 7.94
img title
img title

Be on the top of everything happening around the world.

Try Premium Service.

Subscribe Now!