गूगल के AI सर्च फीचर में खामियां, गलत और अजीब जानकारियां देने पर बढ़ा  विरोध

Edited By Radhika,Updated: 27 May, 2024 12:47 PM

protests increase over flaws in google s ai search feature

पिछले सप्ताह गूगल ने लोगों के सवालों का जवाब देने के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस से लैस नई टेक्नोलॉजी से परदा हटाया। यह वर्षों बाद सर्च के क्षेत्र में हुआ सबसे बड़ा बदलाव है। दरअसल, कंपनी अपने प्रतिद्वंद्वियों माइक्रोसॉफ्ट और ओपन्नएआई से पीछे नहीं...

गैजेट डेस्क : पिछले सप्ताह गूगल ने लोगों के सवालों का जवाब देने के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस से लैस नई टेक्नोलॉजी से परदा हटाया। यह वर्षों बाद सर्च के क्षेत्र में हुआ सबसे बड़ा बदलाव है। दरअसल, कंपनी अपने प्रतिद्वंद्वियों माइक्रोसॉफ्ट और ओपन्नएआई से पीछे नहीं रहना चाहती है। लेकिन एआई ओवरव्यू नामक फीचर ने गूगल के सर्च एंजिन में दो अरब लोगों के भरोसे को नुकसान पहुंचाया है। इसका ऑनलाइन जमकर विरोध हुआ है। दूसरे एआई चैटबॉट्स झूठी और अजीब जानकारी देते हैं लेकिन लोगों की प्रतिक्रिया से जाहिर है कि गूगल पर अपने सर्च एंजिन में एआई की सेफ्टी के लिए अधिक दबाव है।

PunjabKesari

नए फीचर की लॉन्चिंग से गूगल के सामने उसके नए एआई फीचरों में समस्याओं के पैटर्न का खुलासा भी होता है। गूगल ने चैटजीपीटी का मुकाबला करने के लिए फरवरी 2023 में अपना चैटबॉट 'बार्ड' पेश किया था। उसने अंतरिक्ष के बारे में गलत जानकारी दी थी। इसके साथ ही कंपनी का बाजार मूल्य आठ लाख करोड़ रुपए घट गई थी। वहीं, इस साल गूगल ने फरवरी में इमेज जनरेट करने और डिजिटल वॉइस असिस्टेंट के बतौर काम करने वाला चैटबॉट जेमिनी' लॉन्च किया था। यूजर्स को जल्द ही अहसास हो गया कि सिस्टम ने अधिकतर मामलों में श्वेत लोगों की इमेज जनरेट करने से इनकार कर दिया। उसने ऐतिहासिक हस्तियों की गलत तस्वीर पेश की। भारत में भी इस फीचर पर गलत जानकारी देने का आरोप लगा था, जिससे विवाद खड़ा हो गया था। गूगल की प्रवक्ता लारा लेविन ने एक बयान में कहा, 'एआई ओवरव्यू ने अधिकतर सवालों पर उच्च स्तरीय जानकारी दी है। हमने और अजीब जानकारियां देने पर विरोध बढ़ा कई उदाहरणों पर गौर किया है, जिनके जवाब असामान्य सवालों से संबंधित थे। कंपनी अपने सिस्टम को बेहतर बनाने के लिए ऐसे जवानों का इस्तेमाल करेगी'।

PunjabKesari

2022 में ओपनएआई द्वारा अपना चैटजीपीटी रिलीज करने के बाद गूगल पर अपने पॉपुलर एप्स में एआई को शामिल करने का दबाव था। लेकिन ओपन वेब से लिए गए बहुत ज्यादा डेटा से सीखने वाले बड़े लैंग्वेज मॉडलों को साधने में चुनौतियां हैं। गूगल ने धूमधाम के साथ पिछले हफ्ते अपनी सालाना डेवलपर कांफ्रेंस में एआई ओवरव्यू का एलान किया था। कंपनी ने पहली बार अपने नए लैंग्वेज एआई मॉडल जेमिनी को अपने सर्च एंजिन से जोड़ा। एआई ओवरव्यू को अधिक पेचीदा और खास सवालों के जवाब देने के लिए डिजाइन किया गया है।

 

 

 

Related Story

Trending Topics

India

97/2

12.2

Ireland

96/10

16.0

India win by 8 wickets

RR 7.95
img title
img title

Be on the top of everything happening around the world.

Try Premium Service.

Subscribe Now!