महंगाई पर मुख्य रुप से ध्यान: राजन

  • महंगाई पर मुख्य रुप से ध्यान: राजन
You Are HereBusiness
Wednesday, December 11, 2013-5:05 PM

नई दिल्ली: रिजर्व बैंक गवर्नर रघुराम राजन ने कहा है कि केन्द्रीय बैंक का ध्यान महंगाई को काबू करने पर केन्द्रित रहेगा। डा. राजन ने आज दिल्ली आर्थिक सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा हमारा पूरा प्रयास महंगाई को नियंत्रण में रखना है। उन्होंने कहा कि आर्थिक विकास की गति में स्थिरता देखी जा रही है। हालांकि अभी यह कहना बहुत जल्दबाजी होगी कि यह अपने निचले स्तर को छू चुकी है।

उन्होंने कहा कि डॉलर के सामने रुपया ‘कुछ हद’ तक स्थिर हो चुका है, किंतु इस मोर्चे पर ढिलाई बरतने की जरुरत नहीं है। रिजर्व बैंक गवर्नर ने कहा कि सरकार को वित्तीय घाटे को काबू में रखने के लिए अपने प्रयास निरंतर जारी रखने चाहिए और उम्मीद है कि यह चालू वित्त वर्ष के दौरान सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) के 4.8 प्रतिशत के लक्ष्ति दायरे में रहेगा। उन्होंने कहा कि डीजल की कीमतों में सब्सिडी को कम करने से मदद मिलेगी।

रिजर्व बैंक महंगाई को काबू करने को सबसे अधिक प्राथमिकता दे रहा है। इसकी वजह से सितंबर से नीतिगत ब्याज दरों में आधा प्रतिशत की बढोतरी कर चुका है। इसके बावजूद आर्थिक विकास की गति में कुछ सुधार दिखा है और यह चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में पहली तिमाही के 4.4 प्रतिशत की तुलना में कुछ सुधरकर 4.8 प्रतिशत रही है।

राजन ने कहा कि रिजर्व बैंक ऋण बाजार को मजबूत करने पर भी जोर है और कुछ अन्य उत्पाद भी लाए जाएंगे। उन्होंने कहा कि तरलता बढाने पर जोर दिया जा रहा है और इसके लिए उपाय करेंगे। वित्तीय बाजार के विकास पर खासा ध्यान दिया जा रहा है। रिजर्व बैंक गवर्नर ने कहा कि राजनीतिक दलों को प्रमुख आर्थिक विधेयकों को पारित करने में और समय नहीं गंवाना चाहिए क्योंकि 2014 के आम चुनाव के बाद इनको स्वीकृत कराना और चुनौतीपूर्ण हो सकता है।

डा. राजन ने कहा ‘2014 के आम चुनाव के बाद एक स्थिर सरकार बनेगी, इसे हल्के में नहीं लिया जाना चाहिए। राजनीतिक दलों की यह सोच की आम चुनाव के बाद इन्हें पारित करा लिया जाएगा। आवश्यक विधेयकों को पारित कराने में देरी घातक होगी।’ विकास के मुद्दे पर रिजर्व बैंक गवर्नर ने कहा कि अच्छे मानसून की वजह से कृषि क्षेत्र में सुधार देखा गया है और उम्मीद है कि कृषि उत्पादन जोरदार रहेगा। उन्होंने कहा कि कई रुकी हुई परियोजनाओं को मंजूर किया गया है और उम्मीद है कि चालू वित्त वर्ष की दूसरी छमाही में निवेश जोर पकडेगा।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You