ग्लोबल वार्मिग बढऩे का कारण है मनुष्य

  • ग्लोबल वार्मिग बढऩे का कारण है मनुष्य
You Are HereInternational
Saturday, September 28, 2013-3:59 PM

स्टाकहोम: आज यह बात पूरे यकीन के साथ कही जा रही है कि ग्लोबल वार्मिग बढऩे का कारण मनुष्यों है। एक अंतर सरकारी पैनल आइपीसीसी ने जलवायु परिवर्तन पर की रिपोर्ट में यह दावा किया है। दो हजार पन्नों वाली इस रिपोर्ट को सोमवार जारी किया जाएगा,   लेकिन महत्वपूर्ण निष्कर्षो को शुक्रवार को प्रकाशित किया गया। वैज्ञानिकों ने 50 वर्षो के अध्ययन के आधार पर यह परिणाम निकाला है कि बहुत हद तक ग्लोबल वार्मिग का  कारण मनुष्य है। 2007 में संयुक्त राष्ट्र द्वारा प्रायोजित इस पैनल ने अपने पिछली रिपोर्ट में इसकी संभावना व्यक्त की थी।

नई रिपोर्ट के अनुसार, अब इसके पक्के सबूत हैं और यह उन्नत स्तर पर आकलन, जलवायु प्रणाली की स्पष्ट समझ और बढ़ते तापमान के प्रभाव का विश्लेषण करने के बेहतर मॉडल के कारण संभव हुआ है। वर्किंग ग्रुप के सह अध्यक्ष किन दाहे ने कहा कि वातावरण और समुद्र गर्म हो गए हैं, जिससे बर्फ की मात्रा में कमी आई और समुद्र का जलस्तर बढ़ा है और ग्रीन हाउस गैसों की मात्रा भी बड़ी है। आइपीसीसी की रिपोर्ट के अनुसार, इस सदी के अंत तक समुद्र के जलस्तर में 10 से 32 इंच के वृद्धि का आकलन किया है, जबकि अपनी पहली रिपोर्ट में ने वाले समय में 7 से 23 इंच वृद्धि कही थी। शताब्दी के अंत तक दुनिया का औसत तापमान 0.3 से 4.8 डिग्री सेल्सियस बढऩे का अनुमान लगाया गया है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You