निशाने पर नेपाली सांसद, भारत में लड़ चुके हैं चुनाव

  • निशाने पर नेपाली सांसद, भारत में लड़ चुके हैं चुनाव
You Are HereInternational News
Friday, March 07, 2014-8:38 PM

काठमांडू: नेपाल की संविधानसभा के एक सदस्य के बारे में यह पता चलने के बाद कि पूर्व में वे भारत में चुनाव लड़ चुके हैं, निशाने पर आ गए हैं। संविधान सभा में तराई मधेश लोकतांत्रिक पार्टी (टीएमएलपी) के प्रतिनिधि केदारनाथ चौधरी के बारे में मीडिया में जानकारी दी गई है कि उन्होंने 2004 में उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद नगर निगम चुनाव में खोड़ा-मकनपुर इलाके से चुनाव लड़ा था और पराजित हो गए थे।

चौधरी को आनुपातिक प्रतिनिधित्व के तहत टीएमएलपी से चुना गया है और नेपाली मीडिया में कहा गया है कि पार्टी अध्यक्ष महंत ठाकुर को नवंबर महीने में हुए संविधानसभा के चुनाव में ‘वित्तीय मदद’ मुहैया कराने के बाद उन्हें सांसद बनाया गया है। सत्ताधारी नेपाली कांग्रेस के राम हरि खातिवादा, भीष्मराज अंगदांबे और कमल पानगेनी सरीखे कुछ जनप्रतिनिधियों ने गुरुवार को चौधरी के भारतीय राजनीति से संबंधों की जांच करने और मीडिया में लग रहे आरोपों पर सफाई की मांग की है।

खातिवादा ने गुरुवार को सदन में कहा, ‘‘मैं सभा अध्यक्ष का ध्यान चौधरी के भारतीय राजनीति में कथित सहभागिता की ओर आकर्षित करना चाहता हूं और इसकी जांच का आग्रह करता हूं।’’ नेपाली कांग्रेस के प्रतिनिधि ने यह भी कहा कि आखिरी चौधरी ने दोहरी नागरिकता कैसे हासिल की। किस आधार पर भारत में चुनाव में पराजित व्यक्ति को सांसद के रूप में चुना गया और उन्हें क्यों नहीं सदन से बर्खास्त किया जाए।

भारतीय कानून के मुताबिक, गैर भारतीयों को किसी भी स्तर पर चुनाव लडऩे की अनुमति नहीं है। संविधानसभा के अध्यक्ष सुभाष चंद्र नेमवांग ने अभी तक सरकार को कोई आदेश नहीं दिया है।

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन

Recommended For You