क्या अमेरिकी सेना में होगी सिखों की भर्ती?

  • क्या अमेरिकी सेना में होगी सिखों की भर्ती?
You Are HereInternational
Tuesday, March 11, 2014-11:18 AM

वॉशिंगटन: अमेरिका के कई सांसदों ने सिख समुदाय को देश में सैन्य सेवाएं देने के लिए सक्षम बनाने हेतु रक्षा विभाग से उसकी कड़ी सैन्य वर्दी नीति में कुछ ढील देने की अपील की है। न्ययॉर्क के डेमोक्रेटिक जोसेफ क्राउले और न्यूजर्सी के रिपब्लिकन रोडने फ्रेलिनग्यूसेन ने रक्षा मंत्री चक हेगल को लिखे पत्र में यह अपील की है। उन्होंने कहा, "हमें विश्वास है कि अब समय आ गया है कि हमारी सेना में सिख-अमेरिकियों को भी शामिल होने का मौका दिया जाए।"

सिख धर्म के मानने वालों के लिए दाढ़ी, लंबे बाल रखना और पगड़ी बांधना जरूरी है। इन धार्मिक अनिवार्यताओं का मेल अमेरिकी सेना की कड़ी सैन्य वर्दी नीति के साथ नही होता और इस कारण सिख समुदाय के लोगों को अमेरिकी सेना में शामिल नहीं किया जाता है। अमेरिका के रक्षा विभाग द्वारा छह सप्ताह पहले अलग-अलग सैन्य टुकडिय़ों में शामिल सैनिकों को अपने धार्मिक विश्वासों के अनुरूप लंबे बाल और दाढ़ी रखने, पगड़ी और स्कार्फ बांधने या टैटू गुदवाने जैसी आजादी देने के बाद रक्षा मंत्री को यह पत्र लिखा गया है।

अमेरिका के रक्षा विभाग द्वारा सैन्य वर्दी कें संबंध में हाल ही में दी गई इस ढील में अब भी काफी पेंच हैं, जिनके कारण इसे सिख, मुस्लिम और यहूदी समुदाय के सेना में जाने के इच्छुक युवाओं के लिए कोई खास मददगार नहीं माना जा रहा है।

अमेरिका की सेना में रिजर्व टुकड़ी के मेजर कमलजीत कालसी ने कहा, "अमेरिका सेना के तहत सिख एक ऐसी नई नीति चाहते हैं, जिसकी मदद से वह प्रत्यक्ष रूप से सेना में सेवाएं दे सकें। हम अपने लिए किसी ब्लैंक चैक की मांग नहीं कर रहे हैं।" मेजर कालसी ने अमेरिकी सेना के तहत अफगानिस्तान में 2011 में आपालकाल चिकित्सक के तौर पर अपनी सेवाएं दी थीं।

सिख समुदाय के प्रवक्ता अमरदीप सिंह ने कहा कि अमेरिका का रक्षा विभाग अभी तक उन लोगों को जो पूरी शिद्दत से सेना में जाना चाहते हैं, लेकिन अपने धार्मिक विश्वासों और सेना के नियमों में सामंजस्य नहीं हो पाने के कारण ऐसा नहीं कर पाने वालों की मदद के लिए ठोस रूप से कोई रास्ता निकालने के लिए प्रतिबद्ध नहीं रहा है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You