सच सुनने का साहस दिखाएं नमो: नीतीश

  • सच सुनने का साहस दिखाएं नमो: नीतीश
You Are HereNational
Wednesday, November 13, 2013-8:50 AM

पटना: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने एक बार फिर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार और गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी पर इशारे में हमला किया और उन्हें सलाह दी कि वह (झूठ की खेती) बंद करें और सच सुनने का साहस दिखाएं। नीतीश कुमार ने यहां एक कार्यक्रम में हिस्सा लेने के बाद संवाददाताओं से बातचीत के दौरान किसी नेता का नाम लिए बगैर कहा कि जिस तरह की भाषा का इस्तेमाल वह करते है उसमें सच्चाई का कही नामो निशान नही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि वह राजनीतिक पार्टी चलाते है और हम भी राजनीतिक पार्टी ही चलाते है। यदि कोई आरोप लगायेगा तो उसका उत्तर भी मिलेगा। उन्होंने कहा कि तथ्यों पर बात होनी चाहिए लेकिन उनकी बातों में खोखलापन है और प्रचार का आडम्बंर है। वह प्रतिदिन अपने खोखलेपन को उजागर कर रहे हैं।

भाजपा के वरिष्ठ नेता और राज्य के पूर्व उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने मुख्यमंत्री के बयान पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि भाजपा, जनता दल यूनाइटेड (जदयू) गठबंधन टूटने कें बाद से नीतीश कुमार हताशा और निराशा में लगातार झूठ पर झूठ बोल रहे हैं। उन्होंने कहा कि हुंकार रैली में आतंकी हमले के संबंध में केन्द्रीय खुफिया एजेंसी की पूर्व सूचना नही होने को लेकर मुख्यमंत्री का पहला झूठ बेनकाब हो चुका है। आतंकी हमले की सामान्य खुफिया सूचना बिहार सरकार को एक अक्टूबर और 23 अक्टूबर को दी गई थी।  मोदी ने कहा कि मुख्यमंत्री का दूसरा झूठ हुंकार रैली में पर्याप्त सुरक्षा व्यवस्था को लेकर रहा है।

उन्होंने कहा कि अधिकार रैली में जहां दस हजार पुलिसकर्मी तैनात थे और 60 सी.सी. टीवी कैमरा. 15 मेटल डिटेक्टर और 10 श्वान दस्ता के जरिये गांधी मैदान के चप्पे-चप्पे की छानबीन करायी गई थी तथा 17 एम्बुलेंस तैयार रखे गए थे। मुख्यमंत्री को बताना चाहिए कि अधिकार रैली की तुलना में हुंकार रैली में सुरक्षा की क्या व्यवस्था थी। भाजपा नेता ने कहा कि मुख्यमंत्री को यह भी बताना चाहिए कि यदि हुंकार रैली में सुरक्षा के पर्याप्त इंतजाम किये गए थे तो गांधी मैदान में आतंकियो को बम लेकर प्रवेश करने और विस्फोट करने में सफलता कैसे मिल गई। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री का तीसरा झूठ रैली में जुटी भीड़ को लेकर है। हुंकार रैली में जुटी सात लाख से अधिक की भीड़ अधिकार रैली से कम से कम पांच गुणा अधिक थी। इसके कारण ही मुख्यमंत्री विचलित और बुरी तरह से हताश है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You