मनमोहन ने साधा केजरीवाल पर निशाना

  • मनमोहन ने साधा केजरीवाल पर निशाना
You Are HereNational
Wednesday, December 18, 2013-4:13 PM

नई दिल्ली: विधानसभा चुनाव में करारी हार पर अपनी चुप्पी तोड़ते हुये प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने आज कहा कि इस पराजय का मतलब यह नहीं है कि हम 2014 के आम चुनाव के लिए निराश हो जाएं। डा. सिंह ने कांग्रेस संसदीय दल की बैठक को संबोधित करते हुए यहां कहा कि उनकी सरकार की उपलब्धियों को लोगों तक सफलतापूर्वक ठीक से नहीं पहुंचाया जा सका। उन्होंने कटाक्ष करते हुए कहा कि जटिल मुद्दों को समझने के बजाय सरकार को दोष देना बहुत आसान होता है। डा. सिंह ने कहा कि हाल के विधानसभा चुनाव में बहुत से मुद्दे ऐसे हैं जो आम चुनाव में भी मौजूद रहेंगे लेकिन उनकी सरकार की पिछले साढ़ नौ साल की उपलब्धियों पर राष्ट्रीय जनादेश 2014 के आम चुनाव में ही सामने आएगा। इसके साथ ही मनमोहन ने बैठक के दौरान दिल्ली विधानसभा चुनावों में 28 सीटें जीतने वाली आम आदमी पार्टी पर निशाना साधते हुए कहा कि नेताओं को ऐसे वादें नहीं करने चाहिए, जो व्यावहारिक न हों।

उन्होंने याद दिलाया कि 2003 में कभी राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन ने भी विधानसभा चुनाव में अच्छा प्रदर्शन किया था, लेकिन 2004 के आम चुनाव में उसे पराजय का सामना करना पड़ा और कांग्रेस के नेतृत्व में संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) की सरकार बन गई। प्रधानमंत्री का यह बयान ऐसे समय आया है जब चार राज्यों में कांग्रेस की शर्मनाक हार के बाद पार्टी के भीतर से सरकार और उनके नेतृत्व पर तीखे प्रहार हो रहे हैं। अनेक नेताओं ने महंगाई को भी अपनी पराजय का कारण बताया है। इन आलोचनाओं का जवाब देते हुये प्रधानमंत्री ने कहा कि बेशक महंगाई सरकार की एक कमजोरी है लेकिन क्या यह सच नहीं है कि देश के लोगों की आमदनी महंगाई से कहीं ज्यादा तेजी से बढ़ी है।

कमजोर नेतृत्व के आरोप के जवाब में सिंह ने कहा हम बहुत आसानी से नेतृत्व की कमजोरी और अनिर्णय की स्थिति की बात कर लेते हैं लेकिन कोई यह नहीं सोचता कि नेतृत्व का उपयोग क्या है और निर्णय किस बात के लिए लेने हैं। प्रधानमंत्री ने कहा कि इस बार ग्रामीण विकास, अर्थ व्यवस्था की प्रगति और भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाने के लिए उठाये गये कदमों को लोगों के सामने कारगर ढंग से पेश करने की जरुरत है। उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार को लेकर उनकी सरकार की इस बात के लिए आलोचना होती है कि इस पर अंकुश लगाने के लिए हमने कुछ नहीं किया जबकि सच्चाई यह है कि जितने कदम हमने उठाये उतने किसी और ने नहीं उठाए।
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You