लोकपाल को प्रभावी ढंग से लागू किया जाना जरुरी: अन्ना हजारे

  • लोकपाल को प्रभावी ढंग से लागू किया जाना जरुरी: अन्ना हजारे
You Are HereNational
Friday, January 03, 2014-4:44 AM

मुंबई: भ्रष्टाचार के खिलाफ मुहिम चलाने वाले प्रख्यात समाज सेवी अन्ना हजारे ने इस बात पर बल दिया कि लोकपाल कानून को प्रभावी ढंग से लागू किया जाये। उन्होंने कहा कि इस नवनिर्मित कानून से केवल 40 से 50 फीसदी भ्रष्टाचार पर ही लगाम लग पायेगी। हजारे ने अपने गांव रालेगण सिद्धी में संवाददाताओं से कहा, ‘‘भ्रष्टाचार मुक्त भारत का हमारा सपना केवल लोकपाल कानून से ही साकार नहीं हो सकता है। समय की जरुरत है कि इसको प्रभावी ढंग से लागू किया जाये। इसी के साथ हमें खारिज करने का अधिकार, वापस बुलाने का अधिकार, गांव सभाओं को अधिकार संपन्न बनाने, सिटीजन चार्टर जैसे कानूनों के लिए संघर्ष करना पड़ेगा।’’

बहु प्रतीक्षित लोकपाल विधेयक को कल ही राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने मंजूरी दी है। इस कानून के तहत भ्रष्टाचार निरोधक नियामक गठित किया जायेगा और इसके दायरे में प्रधानमंत्री कार्यालय को लाया गया है। हजारे ने कहा कि वह भ्रष्टाचार के खिलाफ मुहिम में जागरूकता फैलाने के मकसद से ईमानदार एवं प्रभावी नागरिकों को एकजुट करने के लिए जल्द ही राष्ट्र व्यापी दौरा करेंगे। उन्होंने कहा कि यदि ऐसे संगठन तहसील, जिला एवं राज्य स्तर पर गठित कर दिये जाये तो राज्य विधायिका एवं संसद पर भ्रष्टाचार निरोधी कानून बनाने के लिए दबाव डाला जा सकता है।

उन्होंने जल्द से जल्द सभी राज्यों में लोकायुक्त गठित करने की मांग की। उन्होंने यह भी मांग की कि महाराष्ट्र में आदर्श घोटाले की जांच करने वाले न्यायिक आयोग द्वारा अभ्यारोपित सभी नौकरशाहों एवं राजनीतिक नेताओं के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाये। उन्होंने अपने पूर्व सहयोगी एवं दिल्ली के मुख्मंत्री अरविंद केजरीवाल की सराहना करते हुए कहा कि यदि कांगे्रस आम आदमी पार्टी सरकार से समर्थन वापस लेती है तो जनता कांगे्रस को सबक सिखायेगी।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You