कूड़े से बिजली बनाने के प्लांट से हो रहे प्रदूषण से परेशान लोगों ने की प्लांट बंद कराने की मांग

  • कूड़े से बिजली बनाने के प्लांट से हो रहे प्रदूषण से परेशान लोगों ने की प्लांट बंद कराने की मांग
You Are HereNational
Sunday, February 23, 2014-10:51 PM
 नई दिल्ली : दक्षिण दिल्ली स्थित कूड़े से बिजली बनाने के प्लांट से हो रहे प्रदूषण से परेशान सुखदेव विहार के लोगों ने एनजीटी में याचिका दायर कर आरोप लगाया है कि कूड़े से बिजली बनाने के प्लांट से क्षेत्र में भारी प्रदूषण हो रहा है। इससे निकलने वाले धुएं व राख से लोगों को सांस संबंधी व अन्य बीमारियों का सामना करना पड़ रहा है।
 
इसलिए इस प्लांट को बंद किया जाना चाहिए। उनका कहना है कि समस्या के समाधान के लिए क्षेत्र के लोग दो वर्ष से संघर्ष कर रहे हैं, लेकिन उनकी परेशानी दूर नहीं हुई।दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण कमेटी (डीपीसीसी) ने भी पिछले दो वर्ष में की गई जांच के दौरान पाया कि प्लांट से होने वाला विषाक्त उत्सर्जन निर्धारित सीमा से ज्यादा है।
 
वहीं, गत दिवस मामले की सुनवाई के दौरान प्लांट के प्रतिनिधियों ने न्यायाधिकरण को बताया कि विषाक्त उत्सर्जन को रोकने के लिए जरूरी कदम उठाए गए हैं। संबंधित पक्षों को सुनने के बाद एनजीटी ने केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण कमेटी तथा पर्यावरण व वन मंत्रालय को मामले की जांच करने को कहा है। मामले की अगली सुनवाई 14 अप्रैल को होगी। यह प्लांट दिसंबर, 2011 में स्थापित किया गया था। इसमें रोजाना 1950 टन कूड़े का दहन कर 16 मेगावाट बिजली का उत्पादन किया जाता है।
 
 
 

 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You