साम्प्रदायिक ताकतों को सत्ता के पास नहीं फटकने देगें: मायावती

  • साम्प्रदायिक ताकतों को सत्ता के पास नहीं फटकने देगें: मायावती
You Are HereUttar Pradesh
Thursday, March 20, 2014-3:11 PM

लखनऊ: बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख मायावती ने कहा है कि अगर लोकसभा चुनाव के बाद उनकी पार्टी ‘वैलेंस आफ पावर’ की भूमिका में होगी तो बसपा धर्मनिरपेक्ष दलों का समर्थन लेकर सरकार बनायेगी मगर किसी भी कीमत पर भाजपा और उसके सहयोगी दलों के साथ नहीं जायेगी। उत्तर-प्रदेश की 80 लोकसभा सीटों के प्रत्याशियों की घोषणा करते हुए मायावती ने संवाददाताओं से बातचीत में कहा, ’’ वे उत्तर प्रदेश में तीन बार भाजपा के साथ गठबंधन सरकार बना चुकी हं और अब तक उसकी रीति-नीति और सोच में कोई बदलाव नहीं आया है इसलिए बसपा ‘वैलेंस आफ पावर’ की भूमिका में आयी तो भाजपा और उसके सहयोगियों के साथ मिलकर सरकार कतई नहीं बनायेगी।’’

उन्होंने कहा कि पूरा प्रयास होगा कि इस लोकसभा चुनाव में बसपा अधिक से अधिक सीटें जीत कर ‘वैलेंस आफ पावर ’ के रुप में उभरे। उन्होंने कहा कि अगर बसपा मजबूत स्थिति में उभर कर आयी और केन्द्र सरकार में सरकार बनाने का कोई अवसर मिला तो वे उत्तर-प्रदेश की तर्ज पर ही केन्द्र में भी ‘सर्वजन हिताय सर्वजन सुखाय’ के सिद्धांत पर ही सरकार बनायेंगी। नरेन्द्र मोदी के बनारस और मुलायम सिंह यादव के आजमगढ़ से चुनाव लडऩे के बारे में मायावती ने कहा कि उनका मानना है कि पूर्वांचल से इन दोनों नेताओं के लडऩे का फैसला दोनो दलों की सोची समझी साजिश और षडयंत्र का हिस्सा है ताकि चुनाव में हिन्दू मुस्लिम रंग दिया जा सके।

उन्होंने हिन्दू और मुस्लिम दोनों समुदायों के लोगों से पुरजोर अपील की कि वे सपा और भाजपा के षडयंत्र को कामयाब न होने दें। साथ ही साथ चुनाव आयेाग से भी अपील की कि वह इन दोनो पार्टियों पर पैनी नजर रखें अन्यथा प्रदेश का माहौल खराब हो सकता है।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You