बाल गृह में 18 साल की अनाथ लड़की ने लगाई फांसी

  • बाल गृह में 18 साल की अनाथ लड़की ने लगाई फांसी
You Are HereNational
Wednesday, February 26, 2014-1:53 PM

कानपुर: राजकीय बाल गृह में रहने वाली एक 18 साल की अनाथ लड़की ने फांसी लगा कर आत्महत्या कर ली। आत्महत्या से पहले उसने एक सुसाइड नोट छोड़ा है जिसमें अपने रिश्तेदारों से बहुत प्यार करने की बात कही है। जिलाधिकारी (डीएम) ने घटना की मजिस्ट्रेटियल जांच के आदेश दे दिए है।

पुलिस प्रवक्ता ने आज बताया कि कोपरगंज में तलवामंडी में रहने वाली अनाथ मीनाक्षी को 26 फरवरी 2009 को राजकीय बाल गृह में लाया गया था। वह कानपुर विद्या मंदिर में कक्षा सात की छात्रा थी। इस साल चूंकि उसकी उम्र 18 साल हो गई थी इसलिए उसे बाल गृह से निकालकर महिला शरणालय में रखने का फैसला लिया गया था । कल रात वह बाथरूम गयी और उसने वहां फांसी लगाकर जान दे दी ।

सूत्रों का कहना है कि चूंकि मीनाक्षी महिला शरणालय नही जाना चाहती थी और यह बात वह कई बार कह चुकी थी और इसको लेकर वह मानसिक रूप से काफी परेशान भी रहती थी संभवत: इसी लिये उसने आत्महत्या कर ली। मीनाक्षी ने मरने से पहले एक सुसाइड नोट लिखकर छोड़ा है जिसमें अपनी आत्महत्या के लिये किसी को जिम्मेदार नहीं ठहराया। उसमें उसने अपने दोस्तों और परिजन की बहुत याद आने की बात लिखी है। इस बीच कानपुर की डीएम रोशन जैकब ने घटना की मजिस्ट्रेटी जांच के आदेश दे दिए है। 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You